भारत

याद कीजिए, आज के ठीक 4 साल पहले देश में लगा था लॉकडाउन, बढ़ रहे कोरोना…

देश में आज LOCKDOWN की चौथी वर्षगांठ है। देश में चार साल पहले आज ही के दिन PM मोदी ने कोरोना वायरस (COVID-19) के बढ़ते प्रसार को रोकने के लिए 'Lockdown ' का ऐलान किया था।

Lockdown in India: देश में आज LOCKDOWN की चौथी वर्षगांठ है। देश में चार साल पहले आज ही के दिन PM मोदी ने कोरोना वायरस (COVID-19) के बढ़ते प्रसार को रोकने के लिए ‘Lockdown ‘ का ऐलान किया था।

चीन के वुहान से शुरू Corona Virus ने देखते ही देखते पूरी दुनिया को अपनी आगोश में ले लिया था।

COVID-19 वायरस के घातक प्रसार के संभावित नतीजों को भांपते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने 11 मार्च 2020 को आधिकारिक तौर पर इसे वैश्विक महामारी घोषित किया था। इस वायरस ने दुनिया के लोगों और देशों को एक-दूसरे से अलग-थलग कर दिया गया था।

इसके दो हफ्ते बाद, 24 मार्च 2020 को पीएम नरेंद्र मोदी ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय में सबसे पहले, पूरे देश में Lockdown का ऐलान कर दिया था। जिसके बाद लोग अपने घरों में ही कैद हो गए।

अपने गांवों को छोड़कर रोजी रोटी के लिए दूसरे शहर गए लोगों ने पैदल ही अपने घरों को रूख कर दिया था। कई महीनों तक देश में लोगों की जिंदगी घरों में ही कैद हो गई थी और सकड़ों व बाजारों में सन्नाटा पसर गया था।

भारत में कुल 4,50,33,332 मामले दर्ज किए गए और 5,33,537 लोगों की मौत हुई है। 11,17,27,592 मामलों और सर्वाधिक 12,18,464 मौतों के साथ अमेरिका दुनिया में सबसे आगे है, जो भारत की तुलना में दोगुने से भी अधिक है। दुनिया में कुल मिलाकर अब तक 70,43,18,936 संक्रमण हुए और 70,07,114 लोगों की मौत हुई है।

जब दुनिया कोविड-19 महामारी के प्रभाव से जूझ रही थी तब सऊदी अरब (Saudi Arab) के मक्का और मदीना की वार्षिक हज यात्रा भी बंद कर दी गई थी।

वहीं मुंबई में प्रतिष्ठित मोहम्मद अली रोड (Mohammad Ali Road) का रमज़ान स्ट्रीट फूड बाज़ार लगभग 250 साल पुराने इतिहास में पहली बार पूरे महीने बंद रहा।

महामारी के कारण देश और दुनिया की हवाई यात्रा को भी बंद कर दिया गया था। इसके अलावा खरीदारी गतिविधि की जगह बड़े पैमाने पर Shopping Online, दफ्तरों में काम करने वाले कर्मचारियों को घर से काम करने की अनुमित दी गई थी। लोगों को नमाज अदा करने के लिए मस्जिदों में जाने से रोक दिया गया था। लोगों ने घरों पर ही नमाज अदा की थी।

वहीं लोगों न मंदिर जाने के वजाय घरों पर ही पूजा अर्चना की। इसके अलावा अन्य धर्मों के लोगों ने भी Lockdown का पालन किया और घरों पर ही प्रार्थना की।

बता दें कि मई 2023 में WHO ने महामारी की समाप्ति की घोषणा की थी।

x