झारखंड की 14 लोस सीटों पर घमासान का दौर जारी, ‘इंडिया’ गठबंधन में प्रत्याशियों का…

News Aroma Desk

Loksabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव (Loksabha Elections) से पहले सियासी सरगर्मियां तेज हो चुकी हैं। नेताओं की धुआंधार सभाएं और जनसंपर्क और डोर-टू-डोर कार्यक्रम चरम पर पहुंचने लगे हैं।

लोकसभा क्षेत्रों में महिलाओं, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, दलित, पिछड़ों और सवर्णों के आंकड़ों का गणित समझने के बाद राजनीति दलों ने उम्मीदवार उतार दिए हैं।

NDA ने झारखंड की सभी 14 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। लेकिन लोकसभा चुनाव (Loksabha Elections) को लेकर झारखंड में ‘INDIA’ गठबंधन के अंदर अब तक 14 लोकसभा Seat Sharing का फॉर्मूला तय नहीं हो पाया है।

लोकसभा चुनाव के लिए Seat Sharing को लेकर झारखंड में इंडिया गठबंधन के अंदर दूर से भले ही सब ऑल इज वेल दिख रहा है, लेकिन Congress, JMM और RJD अधिक से अधिक सीटों पर लड़ने के लिए दांव लगा रही हैं।

जानकारी के अनुसार गठबंधन के अंदर अब तक सभी 14 लोकसभा सीट का फार्मूला तय नहीं हो पाया है, लेकिन ऐसी बातें सामने आई हैं कि कांग्रेस सात, JMM पांच और राजद व वामदल एक-एक पर चुनाव लड़ सकते हैं।

गठबंधन दलों के शीर्ष नेताओं की जुबां पर भी यही फार्मूला रहा है, लेकिन आधिकारिक घोषणा अब तक नहीं हुई है।

हालांकि कांग्रेस ने अब तक तीन सीटों खूंटी, लोहरदगा और हजारीबाग से उम्मीदवारों का ऐलान किया है। दूसरी ओर झामुमो ने चार सीटों सिंहभूम, दुमका, राजमहल और गिरिडीह से उम्मीदवार उतारे हैं।

RJD ने पलामू और वामदल में भाकपा माले से विनोद सिंह कोडरमा के रण क्षेत्र में उतरे हैं। उम्मीदवारों को उतारने तक गठबंधन के अंदर सब कुछ सही दिख रहा है, लेकिन यह भी पता चल रहा है कि JMM की ओर से कांग्रेस पर सीट की अदला-बदली को लेकर दबाव बनाया जा रहा है।

BJP ने 14 लोकसभा सीट पर तीन महिला उम्मीदवारों दुमका से सीता सोरेन, चाईबासा से गीता कोड़ा और कोडरमा से अन्नपूर्णा देवी को उतारा है। पांच आदिवासी उम्मीदवारों को टिकट दिए गए हैं।

अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग और सवर्ण उम्मीदवारों को भी टिकट मिले हैं। इनमें मुस्लिम समुदाय से कोई नेता नहीं है। वहींं इंडी गठबंधन ने अबतक जिन पांच उम्मीदवारों की घोषणा की है, उनमें तीन आदिवासी और दो पिछड़ी जाति के हैं।

11 लोकसभा सीटों पर मुस्लिम मतदाता बहुसंख्यक

झारखंड के 11 लोकसभा क्षेत्रों में सबसे अधिक मतदाता मुस्लिम समुदाय के हैं। राजमहल में 33 फीसदी और गोड्डा में 18 फीसदी मुस्लिम वोटर्स (Muslim Voters) हैं।

आबादी के मामले में खूंटी, लोहरदगा और पलामू लोकसभा क्षेत्र में भी दूसरे नंबर पर Muslim Voters आते हैं।

Share This Article