झारखंड

मांडर विधानसभा उपचुनाव : CM हेमंत ने ट्वीट कर कहा- मांडरवासी झूठ, दम्भ और अहंकार को हराकर लोक-कल्याण को प्राथमिकता देंगे

मांडरवासी इस उपचुनाव में लोक-कल्याण को प्राथमिकता देंगे: मुख्यमंत्री

रांची: मांडर विधानसभा (Mander Assembly) उपचुनाव की वोटिंग गुरुवार सुबह सात बजे से शुरू हो गयी है। मतदान शाम चार बजे तक चलेगा। मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की लंबी कतारें हैं। महिला मतदाताओं में खासा उत्साह देखा जा रहा है।

मांडर उपचुनाव में वोटिंग को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ट्वीट कर अपील की है- मांडर विधानसभा उपचुनाव के लिए गुरूवार को मतदान हो रहा है।

2.5 वर्षों में राज्य यह चौथा उपचुनाव देख रहा है। मुझे विश्वास है मांडरवासी इस उपचुनाव में झूठ, दम्भ और अहंकार को हराकर लोक-कल्याण को प्राथमिकता देंगे। झारखंडी और झारखंडियत की विचारधारा और सशक्त होगी।

433 बूथों पर 14 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद होगी। साढ़े तीन लाख से अधिक मतदाता चुनाव मैदान में भाजपा प्रत्याशी गंगोत्री कुजूर, कांग्रेस से नेहा शिल्पी तिर्की, निर्दलीय प्रत्याशी देव कुमार धान सहित 14 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला कर रहे हैं।

कोरोना को देखते हुए बूथों में सतर्कता बरती जा रही

इस उपचुनाव के लिए चार सहायक मतदान केंद्र के साथ कुल 433 मतदान केंद्र बनाए गये हैं। इसमें 141 अति संवेदनशील, 218 संवेदनशील, 74 सामान्य केंद्र और 55 वल्नरेबल बूथ हैं।

प्रशासन ने दिव्यांग और वृद्धों के लिए विशेष व्यवस्था की है। संवेदनशील बूथों पर CRPF बलों को तैनात किया गया है।

मांडर उपचुनाव में कुल 1732 मतदान कर्मी और लगभग 3000 पुलिस बल तैनात किये गये हैं। 433 मतदान केंद्रों के 100 मीटर के दायरे पर धारा 144 लगाया गया है। साथ ही अगर किसी व्यक्ति को मतदान केंद्र में किसी से शिकायत है तो वह सी-विजील ऐप के माध्यम से ऑनलाइन शिकायत कर सकता है।

कोरोना को देखते हुए बूथों में सतर्कता बरती जा रही है। मतदान करने आये लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है।

वहीं दिव्यांग मतदाताओं की सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। जिला स्तरीय कंट्रोल रूम से मतदान की प्रक्रिया की मॉनिटरिंग (Monitoring) भी की जा रही है।