झारखंड : पंचतत्व में विलीन हुए स्वतंत्रता सेनानी नीलकंठ सहाय

मेदिनीनगर: पलामू के स्वतंत्रता सेनानी स्व. नीलकंठ सहाय का पार्थिव शरीर शुक्रवार को पंचतत्व में विलीन हो गया।

पलामू प्रमंडलीय मुख्यालय मेदिनीनगर के कोयल नदी तट पर स्थित राजा हरिश्चंद्र घाट पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार हुआ।

पुलिस बल ने मातमी धुन बजाकर एवं फायर कर उन्हें सलामी दी। उनके पुत्र अमित सहाय ने उन्हें मुखाग्नि दी।99 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी नीलकंठ सहाय का 11 मार्च को निधन हो गया था।

उनके निधन की सूचना पाकर उपायुक्त-सह-जिला दंडाधिकारी शशि रंजन और पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार उनके आवास पर पहुंचे और पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

उनकी अंतिम यात्रा में सदर अनुमंडल पदाधिकारी अजय सिंह बड़ाईक, जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों के अलावा कई गणमान्य लोग शामिल हुए और उन्हें श्रद्धांजलि दी।

नीलकंठ सहाय के निधन पर आयुक्त जटाशंकर चौधरी ने भी गहरी शोक संवेदना व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। उन्होंने कहा है कि स्वतंत्रता सेनानियों को हमेशा सम्मान पूर्वक याद किया जायेगा।

उपायुक्त शशि रंजन ने भी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा है कि नीलकंठ सिंह सहाय ने स्वतंत्रता संग्राम में जो योगदान दिया है, उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button