मंत्री ने रिंग रोड चौक पर किया महाराजा मदरा मुंडा की आदमकद प्रतिमा का अनावरण

रांची: कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और मंत्री रामेश्वर उरांव ने शनिवार को मोरहाबादी-बोरिया रोड स्थित मदरा मुंडा रिंग रोड चौक पर महाराजा मदरा मुंडा की आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया।

मौके पर रामेश्वर उरांव ने कहा कि हमारा इतिहास रहा है कि अनुसूचित जनजाति के बीच ही लोग अपना राजा चुनते रहे हैं।

जमीन की रक्षा और शोषण के खिलाफ चाहे वह इस्ट इंडिया कंपनी हो या ब्रिटिश हुकुमत हो, आदिवासियों ने विद्रोह और संघर्ष का बिगुल फूंकने का काम किया।

राज्य के आदिवासी बहुल क्षेत्र में चाहे वह कोल विद्रोह हो या भगवान बिरसा मुंडा का अंग्रेजी शासन के खिलाफ संघर्ष हो अथवा 1858 में संतालपरगना इलाके में हूल आंदोलन हो, सभी स्थानों पर जनजातीय समाज ने जमीन बचाने के लिए एवं शोषण से मुक्ति के लिए संघर्ष किया।

सत्ता भले ही इधर से उधर गयी, लेकिन जमीन की रक्षा और शोषण के खिलाफ पूर्वजो का इतिहास संघर्ष भरा रहा।

उन्होंने कहा कि आदिवासियों के हितों की रक्षा को लेकर बनाये गये सीएनटी-एसपीटी कानून में भी छेड़छाड़ की कोशिश की गयी। लेकिन इतिहास का चक्र एक बार फिर घूमा है।

एक बार राज्य में आदिवासियों-मूलवासियों का शासन बना है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चल रही सरकार में किसी को भी डरने की कोई जरुरत नहीं है।

सरकार किसी के प्रति विद्वेष की भावना से काम नहीं करती, बल्कि सभी वर्गां के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।

लेकिन आदिवासी-मूलवासी के जमीन पर नजर मत गड़ाईये।

उन्होंने कहा कि झारखंड की संस्कृति, भाषा और जल, जंगल-जमीन की रक्षा हो सके।

इसके लिए सदियों से लोकतांत्रिक व्यवस्था कायम रही, आज भी पेसा कानून के माध्यम से महाराजा मदरा मुंडा के राज के समय से चली आ रही ग्रामसभा को मजबूत बनाये रखने की परंपरा का निर्वहन हो रहा है।

उन्होंने महाराजा मदरा मुंडा की प्रतिमा अनावरण में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेने वाले सोमनाथ मुंडा के कार्यों की भी सराहना की। रामेश्वर उरांव ने कहा हम अपने पूर्वजों का इतिहास पढ़ेंगे।

हम रांची जिला में अलग-अलग जगहों पर महाराजा मदरा मुंडा की प्रतिमा भी लगाएंगे। आदिवासी मूलवासी के हाथों में अभी शासन आया है।

देश सबका है, राज्य सबका है ,रहने का सबको अधिकार है, सबकी लेकिन शोषण करने का और जमीन लूटने का अधिकार हम किसी को नहीं दे सकते।

हमारी परंपरा हमारी संस्कृति, हमारी भाषा, हमारी जमीन हमारा सब कुछ है। विधायक नमन विक्सल कोंगाड़ी ने मुंडाओं के इतिहास पर रौशनी डालते हुए कहा कि 600 ईसा पूर्व हमारे पूर्वज पिठोरिया के सुतीयाम्बे में आये थे और सामाजिक ढ़ंग से जीवन यापन कर रहे थे।

हमारा जुड़ाव सिन्धू घाटी सभ्यता,मोहनजोदड़ो, हड़प्पा संस्कृति से है जिनके इतिहास, संस्कृति, परम्पराओं को दबाया जा रहा है। मुण्डा समाज अत्याचार के शिकार हुए हैं।

विधायक ने कहा शासक का पहला हक मुण्डा को मिलना चाहिए। सोमनाथ मुंडा ने बताया की महाराजा मदरा मुंडा एक बहुत ही प्रभावशाली व्यक्तित्व के धनी शासक थे।

मदरा मुंडा का शासनकाल महाभारत काल के समकक्ष था। इन्होंने महाभारत के युद्ध में भी भाग लिया था और छोटानागपुर के एक बहुत ही लोकप्रिय शासक थे।

इन्हीं के कार्यकाल में पड़हा शासन व्यवस्था विकसित हुई।

कार्यक्रम में सिमडेगा विधायक नमन विक्सल कोंगाड़ी, प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे,लाल किशोर नाथ शाहदेव, डा राजेश गुप्ता छोटू,बेलस तिर्की, आदि उपस्थित थे।

Back to top button