हेलीकॉप्टर दुर्घटना : दुर्घटनास्थल से ब्लैक बॉक्स बरामद, फॉरेंसिक टीम ने शुरू की जांच

मौके से मिले उपकरण से दुर्घटना के कारणों की सही जानकारी मिलने की उम्मीद

नई दिल्ली: वायु सेना के अधिकारियों ने तमिलनाडु के पास कुन्नूर के पास दुर्घटनाग्रस्त हुए एमआई-17वी 5 हेलीकॉप्टर के महत्वपूर्ण उपकरण और ब्लैक बॉक्स दुर्घटनास्थल से बरामद किया है।

मौके से मिले उपकरणों से इस दुर्घटना में सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य लोगों की मौत के बारे में सही मिल सकती है।

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : दुर्घटनास्थल से ब्लैक बॉक्स बरामद, फॉरेंसिक टीम ने शुरू की जांच

फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर जांच शुरू कर दी है। आज शाम 4 बजे तक चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी के पार्थिव शरीर दिल्ली लाये जाने की संभावना है और अंतिम संस्कार शुक्रवार (10 दिसंबर) को दिल्ली छावनी में किया जाएगा।

तमिलनाडु के कुन्नूर में बुधवार को वायु सेना के हेलीकॉप्टर हादसे में देश के सैन्य बलों के पहले प्रमुख सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 13 लोगों की मौत हो गई। हादसे में ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह इकलौते जीवित बचे हैं, जिनका सैन्य अस्पताल, वेलिंगटन में उपचार चल रहा है।

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : दुर्घटनास्थल से ब्लैक बॉक्स बरामद, फॉरेंसिक टीम ने शुरू की जांच

हादसे के बाद रक्षा अधिकारियों ने खोज क्षेत्र को दुर्घटनास्थल से 300 मीटर से एक किमी. तक बढ़ा दिया गया था। इसके बाद दुर्घटना स्थल से वायु सेना के अधिकारियों ने आज हेलीकॉप्टर के महत्वपूर्ण उपकरण और ब्लैक बॉक्स बरामद किया है।

ब्लैक बॉक्स हेलीकॉप्टर की अंतिम उड़ान स्थिति और कॉकपिट बातचीत के बारे में डेटा प्रकट कर सकता है। ब्लैक बॉक्स के जरिये इस दुर्घटना के असली कारणों से संबंधित महत्वपूर्ण डेटा मिल सकेंगे।

फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर जांच शुरू कर दी है। आज शाम 4 बजे तक चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी के पार्थिव शरीर दिल्ली लाये जाने की संभावना है।

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : दुर्घटनास्थल से ब्लैक बॉक्स बरामद, फॉरेंसिक टीम ने शुरू की जांच

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी का अंतिम संस्कार शुक्रवार (10 दिसंबर) को दिल्ली छावनी में किया जाएगा।

रावत दंपति के पार्थिव शरीर शुक्रवार को उनके कामराज मार्ग स्थित सरकारी आवास पर लाए जाएंगे। यहीं पर सुबह 11 से दोपहर 2 बजे तक अंतिम सम्मान देने के लिए शवों को रखा जाएगा।

इसके बाद यहीं से उनके पार्थिव शरीर की अंतिम यात्रा दिल्ली छावनी में बरार स्क्वायर श्मशान घाट तक निकाली जाएगी जहां राजकीय सम्मान से साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button