हेलीकॉप्टर हादसे में जान गंवाने वाले छह और लोगों की हुई पहचान

पार्थिव देह परिवार वालों को सौंपी गईं, बेस अस्पताल दिल्ली में दी जाएगी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली: तमिलनाडु हेलीकॉप्टर हादसे में सेना के दो जवानों और वायुसेना के चार जवानों की पहचान पूरी होने के बाद उनके पार्थिव शरीर परिवार वालों को सौंप दिए गए हैं।

सभी शव बेस अस्पताल, दिल्ली कैंट में रखे जाएंगे, जहां माल्यार्पण करके उन्हें श्रद्धांजलि दी जाएगी।

भारतीय सेना की ओर से एक बयान में कहा गया है कि बाकी चार अन्य जवानों की पार्थिव देह की पहचान जल्द ही पूरी कर ली जाएगी।

इस हादसे में मारे गए विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान को अंतिम विदाई देने से पहले आगरा में उनके घर तक जाने वाली सड़क को ढाई घंटे के अन्दर बनाकर नए तरीके से श्रद्धांजलि दी गई है।

सेना ने कहा, बाकी चार अन्य जवानों की पार्थिव देह की पहचान जल्द ही पूरी की जाएगी

तमिलनाडु के कुन्नूर में हेलीकॉप्टर हादसे में मारे गए सभी लोगों के पार्थिव शरीर गुरुवार रात को वायुसेना के विमान सी-130जे हरक्युलिस से सीडीएस रावत, उनकी पत्नी मधुलिका,

सीडीएस के पीएसओ ब्रिगेडियर एलएस लिड्डर, लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह, नायक गुरसेवक सिंह, नायक जितेंद्र कुमार, लांस नायक विवेक कुमार, लांस नायक बी साई तेजा, विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान,

स्क्वाड्रन लीडर कुलदीप सिंह, जूनियर वारंट ऑफिसर राणा प्रताप दास, जूनियर वारंट ऑफिसर अरक्कल प्रदीप, हवलदार सतपाल राय के पार्थिव शरीर पालम एयरबेस पर दिल्ली लाये गए।

सीडीएस रावत, उनकी पत्नी मधुलिका, सीडीएस के पीएसओ ब्रिगेडियर एलएस लिड्डर के पार्थिव शरीरों का अंतिम संस्कार शुक्रवार को बरार स्क्वायर श्मशान घाट पर कर दिया गया।

दुर्घटना में मारे गए अधिकारियों और कर्मियों के पार्थिव शरीर इस कदर झुलसे थे कि उन्हें पहचानना मुश्किल है, इसलिए बाकी शवों की पहचान डीएनए जांच से करके उनके परिजनों को सौंपे जाने का फैसला लिया गया था।

सेना के लायंस नायक बी साई तेजा और लायंस नायक विवेक कुमार के शवों की पहचान होने के बाद उनके पार्थिव शरीर आज सुबह परिवार के करीबी सदस्यों को सौंप दिए गए हैं।

इसी तरह वायुसेना ने कहा कि वायु सेना के जेडब्ल्यूओ प्रदीप ए, विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान, जेडब्ल्यूओ राणा प्रताप दास और स्क्वाड्रन लीडर कुलदीप सिंह की पहचान पूरी हो गई है।

इनके पार्थिव शरीरों को पैतृक स्थानों को भेजने से पहले बेस अस्पताल, दिल्ली कैंट में माल्यार्पण करके उन्हें श्रद्धांजलि दी जाएगी। भारतीय सेना ने एक बयान में कहा गया है कि बाकी चार अन्य जवानों की पार्थिव देह की पहचान जल्द ही पूरी कर ली जाएगी।

विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान के घर तक आगरा में ढाई घंटे के भीतर बनाई गई सड़क

आगरा के रहने वाले विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान के पार्थिव शरीर को आखिरी विदाई देने की तैयारी यूपी के आगरा में चल रही है। पृथ्वी सिंह चौहान के घर तक जाने वाली गली को रातों-रात दुरुस्त कर दिया गया है।

पड़ोसियों के मुताबिक शुक्रवार रात 10 बजे काम शुरू हुआ और ढाई घंटे में पक्की सड़क बना दी गई। इस गली को 12 साल पहले बनाया गया था लेकिन पिछले 10 साल से गली में गड्ढे थे।

विंग कमांडर चौहान का पार्थिव शरीर लाने से पहले तारकोल और गिट्टी डालकर अब सड़क को दुरुस्त किया गया है। अब इसके बाद आरसीसी सड़क बनाई जाएगी।

परिजनों ने बताया कि पृथ्वी सिंह का पार्थिव शरीर शनिवार को विमान के जरिए आगरा लाया जाएगा, जहां से सड़क मार्ग से उनके आवास सरन नगर (न्यू आगरा) पर लाया जाएगा। इसके बाद उन्हें श्रद्धांजलि देकर शनिवार को दिन में ही उनका दाह संस्कार ताजगंज श्मशान घाट पर किया जाएगा।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button