भू-माफियाओं ने चितरपुर सीओ को दी धमकी, एससी एसटी थाने में प्राथमिकी दर्ज

मजहर आलम समेत तीन लोगों के खिलाफ एससी एसटी थाने में प्राथमिकी दर्ज

रामगढ़: जिले का चितरपुर प्रखंड भू माफियाओं का सबसे बड़ा अड्डा बन गया है।

वहां भू माफियाओं की हिम्मत इतनी बढ़ गई है कि वह सरकारी अधिकारियों को भी धमकी देने से पीछे नहीं हट रहे। यहां तक कि सरकारी कार्यक्रम से लौट रहे चितरपुर अंचल अधिकारी तृप्ति विजया कुजुर को भी भू माफियाओं के द्वारा धमकी दी गई।

अंचल अधिकारी को तो जिले से तबादले तक की धमकी दे डाली गई। यह मामला तब उजागर हुआ जब चितरपुर अंचल अधिकारी तृप्ति विजया कुजूर ने रामगढ़ एससी एसटी थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई।

इस पूरे प्रकरण में उन्होंने चितरपुर प्रखंड के सबसे बड़े भूमाफिया ओ में शामिल मजहर आलम समेत तीन लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। साथ ही उन्होंने इस पूरे मामले की जानकारी जिले के तमाम आला अधिकारियों को दे दी है।

प्राथमिकी में क्या कहा चितरपुर अंचल अधिकारी ने अंचल अधिकारी तृप्ति विजया को जोड़ने प्राथमिकी में कहा है कि चित्र पुर निवासी मजहर आलम पिता स्व. बदरुद्दीन हसन तथा फ़िरोज़ आलम पिता स्व. जफर आलम द्वारा सीसीएल अधिग्रहित भूमि को जबरन

फर्जी कागजात देकर अपने नाम पर प्रविष्टि कराने के लिए दबाव दिया गया। फिरोज आलम द्वारा

पत्रकारिता का भय दिखाया व धमकी दिया। साथ ही महादेव प्रसाद पिता स्व० त्रिभुवन साव निवासी –

सुकरीगढ़ा द्वारा जबरन विवादित भूमि की ऑनलाइन प्रविष्टि हेतु धमकाया गया। फिरोज आलम तथा महादेव प्रसाद के द्वारा बार-बार षड्यंत्र रच कर मुझ पर

भष्टाचार का झूठा आरोप लगाया तथा तबादले की धमकी दी। 9 नवंबर को महादेव प्रसाद द्वारा चितरपुर अंचल कक्ष में घुस कर घंटों खड़े रह कर सरकारी कार्यों में बाधा डाला गया। खड़े होकर उनकी ऑडियो रिकॉर्डिंग की।

दिनांक 17-11-2021 को पंचायत भवन भुचुंगडीह में आयोजित आपके अधिकार आपके सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में फिरोज आलम एवं महादेव प्रसाद उपस्थित थे। कार्यक्रम समाप्त होने के पश्चात लौटने के क्रम में भुचुंगडीह रजरप्पा मार्ग पर शाम लगभग 06:00 बजे मेरी

सरकारी गाड़ी रोककर गाली गलोज किया। आदिवासी हो निम्न जाति से हो इसलिए सीओ बन भी गयी। नहीं तो तुम चपरासी के लायक भी नहीं हो। हमको तो तुम्हारी योग्यता पर भी शक है।

अभी तक तुम्हारा माथा नहीं घुमा है। जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल किया और दोनों मिल कर बोला कि कल तक तुम मेरा काम कर देना नहीं तो अंजाम बहुत ही बुरा होगा, जिसकी तुम कल्पना भी

नहीं कर सकती हो। उक्त रिकॉर्डिंग की छेड़-छाड़ कर अपलोड किया तथा फर्जी ऑडियो-विडियो

बनाया और न्यूज़ में अपलोड किया। इससे मेरी छवि धूमिल हुई । इनके इन सभी कार्यों से मैं भय तथा मानसिक दयाब में हूं, तथा मेरी जान को भी खतरा है।

भविष्य में मुझे या मेरे परिवार के साथ किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना होती है तो इसके जिम्मेवार मजहर आलम, फिरोज आलम तथा महादेव प्रसाद ही होंगे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button