रांची में यहां वैक्सीनेशन कराने 10 लोग नहीं पहुंचे तो नहीं हुआ टीकाकरण, जानें क्या है मामला

रांची: रांची शहर में एक सेंटर ऐसा भी है जहां पर कोवैक्सीन का वायल इसलिए नहीं खोला जा रहा है कि दस लोग टीका लगाने के लिए इकट्ठा नहीं हुए।

इस चक्कर में कोवैक्सीन की सेकेंड डोज लगाने वालों को घंटों तक इंतजार करना पड़ रहा है।

लोग दूसरे सेंटर पर भी नहीं जा रहे हैं कि कहीं वहां भी ऐसी स्थिति न हो जाये और उन्हें टीका ही न मिल पाये।

उल्लेखनीय है कि कोवैक्सीन की सप्लाई कम हो रही है। इससे लोगों को टाइम से वैक्सीन नहीं मिल पा रही है, जबकि स्वास्थ्य विभाग ने सेकेंड डोज लगानेवालों को प्राथमिकता में रखने को कहा है। बावजूद सेंटर पर ऐसी स्थिति से लोगों को परेशानी हो रही है।

क्या है मामला

सरकारी स्कूल थड़पखना में 8 लोग वैक्सीन लगाने के लिए पहुंचे थे। जिसमें कोई बजरा से तो कोई टाटीसिल्वे से पहुंचा था। 4-5 सेंटर पर चक्कर लगाने के बाद भी उन्हें निराशा ही हाथ लगी।

तब वे उस सेंटर पर पहुंचे और कोवैक्सीन उपलब्ध होने की जानकारी मिली।

लेकिन ड्यूटी में तैनात हेल्थ वर्कर ने यह कहते हुए वैक्सीन का वायल नहीं खोला कि डोज बर्बाद हो जायेगी। इसलिए जब तक दस लोग इकट्ठा न हों तो वह वैक्सीन नहीं लगायी जायेगी।

दस लोग होने पर ही खुलती है वैक्सीन की एक शीशी

वैक्सीन की एक शीशी से दस लोगों को वैक्सीन दी जाती है। सरकार नहीं चाहती की वैक्सीन की बर्बादी हो यही कारण है कि 10 लोगों के बुक होने के बाद ही वैक्सीनेशन देने की योजना बनायी गयी है।

इसमें मेडिकल स्टाफ को भी नियुक्त किया गया है, जो वैक्सीन लेने वाले व्यक्ति के पास कुछ समय के लिए ऑब्जर्वेशन करेगा।

अगर उसे वैक्सीनेशन के बाद किसी भी तरह की समस्या होती है तो वो उसका ध्यान रखेगा।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button