झारखंड

झारखंड सरकार ने नये धरना स्थल पर नहीं दी शौचायल, पेयजल और शेड की सुविधा: सीपी सिंह

रांची: झारखंड विधानसभा बजट सत्र के दौरान सोमवार को रांची विधायक सीपी सिंह ने सदन में नये धरना स्थल पर मुद्दा उठाया। सिंह ने कहा कि झारखंड सरकार ने नये धरना स्थल का चयन किया है।

वहां शौचायल, पेयजल और शेड की सुविधा नहीं है। आंदोलन करने वाले प्रदर्शनकारियों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि सरकार को वहां हो रही परेशानियों को संज्ञान लेना चाहिए। वहां पेयजल, शौचालय और शेड की व्यवस्था करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि अगर सरकार चाहे तो उन्हें यह जिम्मेदारी सौंप सकती है। वह अपनी निगरानी में धरनास्थल पर लोगों की सुविधा के लिए जरूरी आधारभूत संरचना की व्यवस्था करवाने के लिए तैयार हैं।

हालांकि वह इलाका उनके विधानसभा क्षेत्र में नहीं आता, बावजूद इसके वो अपने विधायक मद से व्यवस्था करने के लिए तैयार हैं।

उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार ने पुंदाग साईं मंदिर के सामने वाले मैदान का नया धरना स्थल घोषित किया है। इसके पूर्व लोग अपनी मांगों को लेकर मोरहाबादी मैदान में धरना देते थे।

लॉ एंड ऑर्डर का मसला बताकर सरकार ने पुंदाग साईं मंदिर के सामने वाले मैदान को नया धरना स्थल घोषित किया है।

इधर, भाजपा विधायक बिरंची नारायण ने सदन में खोरठा को द्वितीय राजभाषा का दर्जा देने का सवाल उठाया। इस पर मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि नौ साल पहले ही खोरठा को ये दर्जा दिया जा चुका है।

इसके प्रचार-प्रसार पर सरकार ध्यान देगी। कांग्रेस विधायक राजेश कच्छप ने जैप-10 में महिला आरक्षियों को प्रोन्नति देने का सवाल उठाया। आलमगीर ने कहा कि अभी प्रोन्नति पर रोक है। रोक हटते ही प्रोन्नति दी जायेगी।

Back to top button