रांची एयरपोर्ट से महिला गिरफ्तार, 15 दिन के बच्चे को ट्रैफिकिंग कर ले जा रही थी मुंबई

एयरपोर्ट पुलिस ने निखत को पकड़कर एंटी ट्रैफिकिंग सेल के हवाले कर दिया

रांची: रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट से लगभग 15 दिनों के एक नवजात बच्चे को ट्रैफिकिंग कर रांची से मुंबई ले जा रही एक महिला को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

महिला को शुक्रवार को जेल भेज दिया गया। जानकारी के अनुसार महिला का नाम निखत परवीन है। निखत 13 जनवरी को दोपहर एक बजे इंडिगो की फ्लाइट से मुंबई जा रही थी।

इस दौरान उसके गोद में एक नवजात बच्चा था। टिकट में बच्चे की जिक्र नहीं होने के कारण सीआईएसएफ जवानों ने गेट पर ही रोक दिया।

इसके बाद निखत इंडिगो के काउंटर पर जाकर बच्चे का नाम जुड़वाने का प्रयास करने लगी, तब जाकर मामले का खुलासा हुआ और इंडिगो के स्टाफ ने एयरपोर्ट पुलिस को मामले की जानकारी दी। एयरपोर्ट पुलिस ने निखत को पकड़कर एंटी ट्रैफिकिंग सेल के हवाले कर दिया।

एयरपोर्ट थाना प्रभारी आनंद ने बताया कि महिला को दोपहर इंडिगो स्टॉफ की सूचना पर उन्होंने निखत परवीन को बच्चे के साथ पकड़ा था।

बाद में एंटी हयूमन ट्रैफिकिंग का मामला होने के कारण ट्रैफिकिंग सेल की दुर्गा गुप्ता को मामला सौंप दिया गया।

दुर्गा गुप्ता ने मामले की पुष्टि करते हुए कहा कि एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग के मामले में महिला निखत परवीन को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसे जेल भेज दिया गया।

बताया गया कि यह मामला एयरपोर्ट स्थित इंडिगो एयरलाइंस के स्टॉफ की सूझबूझ से पकड़ा गया।

सीआईएसएफ जवानों द्वारा जब निखत परवीन को प्रवेशद्वार पर ही रोक दिया गया, तब वह बच्चे का नाम टिकट में जुड़वाने के लिए इंडिगो टिकट काउंटर पहुंची।

वहां एक्जक्युटिव अंजनी नंदन पांडेय ड्यूटी पर तैनात थे। अंजनी ने जब बच्चे का नाम पूछा, तो निखत नाम बताने में सकपका गयी।

इसके बाद जब अंजनी ने बच्चे का उम्र पूछते हुए बर्थ सर्टिफिकेट मांगा, तो वह कभी 15 दिन तो कभी तीन दिन उम्र बता रही थी।

शक होने पर जब अंजनी और इंडिगो मैनेजर रिजवान कादिर ने जांच की तो पता चला कि 11 जनवरी को वह महिला बिना बच्चे के मुंबई से रांची आयी थी।

13 जनवरी को फ्लाइट 6ई341 से दोपहर दो बजे मुंबई जाने के लिए उसने 12 जनवरी को ऑनलाइन टिकट बनवाया था, लेकिन उसमें बच्चे की इंट्री नहीं करवायी थी। शक के आधार पर इंडिगो स्टॉफ ने पुलिस को सूचित कर दिया।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button