साड़ी पहनने से महिलाओं में बढ़ रहा है साड़ी कैंसर का खतरा, हैरान कर देगा …

Digital Desk

Saree Cancer : साड़ी भारतीय संस्कृति का एक अहम हिस्सा है। भारतीय महिलाएं (Indian Women) अक्सर किसी पार्टी, फंक्शन, फेस्टिवल या पूजा-पाठ में साड़ी (Saree) पहनना काफी पसंद करती हैं।

साड़ी का ट्रेंड सिर्फ भारत तक ही सीमित नहीं है बल्कि आज पूरी दुनिया में साड़ी को अलग-अलग तरीके से पहना जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि साड़ी पहनने के तरीके से कैंसर (Saree Cancer) होने का खतरा बढ़ता है।

भारत की महिलाएं जिस तरीके से साड़ी पहनती हैं उसकी वजह से उन्हें कैंसर (Cancer) जैसी गंभीर हो रही है। साड़ी के अलावा दूसरी तरह की कपड़ों के कारण भी कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का खतरा बढ़ता है।

साड़ी कैंसर क्या है?

साड़ी पहनने के कारण  Squamous Cell carcinoma (SCC) कैंसर का खतरा बढ़ता है। इस तरह के कैंसर भारतीय महिलाओं में तेजी से फैल रहा है। बीते कुछ सालों में साड़ी के कैंसर के मामले तेजी से बढ़े हैं।

ओनली माई हेल्थ (Only My Health) में छपी खबर के मुताबिक SCPM मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल के कैंसर स्पेशलिस्ट डॉ सुदीप कहते हैं कि भारत के गांवों में रहने वाली महिलाएं पूरे साल साड़ी पहनती है। साड़ी बांधती है वहां पर यानि कमर पर निशान (Mark) पड़ जाते हैं।

Saree

यह निशान कमर पर पेटीकोट पहनने वाले सूती नाड़े के कारण होती है। इसके कारण कमर पर रगड़ आता है। जिसके कारण कमर पर काला निशान पड़ जाता है।

आगे  चलकर यह निशान स्किन कैंसर (Skin Cancer) का रूप ले लेता है। जो महिलाएं बहुत ज्यादा गर्मी में रहती है उन्हें यह बीमारी होने का खतरा सबसे अधिक रहता है। बिहार (Bihar) और झारखंड (Jharkhand)  की महिलाओं में यह बीमारी तेजी से फैल रही है।

कश्मीरी कांगरी कपड़े और टाइट जींस से भी होता है कैंसर

कश्मीर (Kashmir) में कांगरी कपड़े के अंगर लोग आग जला कर रख लेते हैं इसके कारण भी स्किन में गर्मी लगती है और स्किन कैंसर का खतरा बढ़ता है।

टाइट जींस पहनने से लोगों में हो रहीं ये 5 शारीरिक दिक्कतें, समय रहते हो  जायें सचेत – Aakash Gyan Vatika इसके साथ ही टाइट जींस (Jeans) पहनने के कारण कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का खतरा बढ़ता है। साथ ही प्राइवेट पार्ट को भी नुकसान पहुंचता है।

ऐसे कर सकते हैं बचाव

कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचने के लिए सबसे जरूरी है आप अपनी लाइफस्टाइल ठीक करें। हेल्दी और पोष्टिक खाना खाएं। एक्टिव लाइफस्टाइल रखें। एक जगह घंटों तक बैठे न रहें। आप जितना एक्टिव रहेंगे वह आपके शरीर के लिए फायदेमंद है।

Disclaimer: याद दी गई जानकारी केवल एक सामान्य जानकारी प्रदान करती है। इस संबंध कोई भी कदम उठाने से पूर्व विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें।

हमें Follow करें!

x