टिस्का चोपड़ा ने बताई अपने निर्देशन डेब्यू की कहानी

मुंबई: अभिनेत्री व निर्माता टिस्का चोपड़ा को लगता है अगर आपके पास बताने के लिए कहानियां हैं, तो आपको उन्हें खुद बताना होगा। उन्होंने पहली बार फिल्म निर्देशन में हाथ आजमाया है।

टिस्का ने निर्देशक के रूप में लघुफिल्म रूबरू से अपनी शुरुआत की है, जिसे उन्होंने अपने पति कैप्टन संजय चोपड़ा के साथ लिखा है। स्क्रीनप्ले को नम्रता शेनॉय ने लिखा है।

अपने पहले निर्देशन के बारे में बात करते हुए टिस्का ने आईएएनएस को बताया, फिल्म एक बॉलीवुड अभिनेत्री के बारे में है, जो कभी बहुत लोकप्रिय थी, लेकिन उसका करियर अब फिसलने लगा है, ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि ब्लॉक पर अब युवा और नए लोग आने लगे हैं।

कहानी में बताया गया है कि वह कैसे हार रही है और अपने आत्मविश्वास को पाने के लिए वह क्या करती है।

इस दिशा में प्रयास करने के लिए टिस्का को किसने प्रेरित किया? यह पूछने पर अभिनेत्री ने जवाब दिया, एक कलाकार के रूप में आप हमेशा अन्य लोगों की कहानियों को बताने का हिस्सा होते हैं।

किसी और ने इसे लिखा है, किसी और ने इसे निर्देशित किया है, किसी और ने इसे निर्मित किया है और आप कहानी और किरदार की कल्पना कर उसे शत प्रतिशत पेश करने में मदद करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करते हैं।

मुझे लगता है, अगर आपके पास बताने के लिए कहानियां हैं, तो आपको उन्हें खुद बनाना होगा।

टिस्का भविष्य में एक पूरी लंबी फीचर फिल्म निर्देशित करने की उम्मीद कर रही है।

वहीं उन्होंने तय नहीं किया है कि वह किस शैली को चुनना पसंद करेंगी।

उन्होंने आगे कहा, मुझे लगता है कि मैं कहानी के आधार पर एक निर्णय (शैलियों के बारे में) लेना चाहूंगी, क्योंकि फिल्म निर्माण सिर्फ एक तकनीकी प्रक्रिया नहीं है, यह एक भावनात्मक प्रक्रिया है जहां आप कहानी में शामिल होना चाहते हैं और यह बताना चाहते हैं कि कहानी क्या है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button