तुगलकी फरमान की वापसी, जन भावनाओं और छठ पूजा समितियों की जीत: दीपक प्रकाश

NEWS AROMA
#image_title

न्यूज़ अरोमा रांची: छठ पूजा पर हेमन्त सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देश में हुए परिवर्तन को लेकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद दीपक प्रकाश ने कहा कि यह जनभावना की जीत है। सनातनियों की जीत है। लोक आस्था के महापर्व के श्रद्धालुओं की जीत है।

उन्होंने मंगलवार को कहा कि तुष्टिकरण और वोट बैंक की राजनीति के खिलाफ जीत है। हेमन्त सरकार के गलत नीतियों के खिलाफ जीत है। एक के बाद एक गलत फैसलों के खिलाफ जीत है।

उन्होंने कहा कि छठ पूजा समिति, सनातन धर्म संगठन, सामाजिक संगठन ने हेमन्त सरकार के जनविरोधी फैसला के खिलाफ चढ़ बढ़ कर हिस्सा लिया। भाजपा उन सभी संगठनों को धन्यवाद करती है।

हेमन्त सरकार जनविरोधी नीतियां थोपने में लगी हुई है। लेकिन जनविरोध के बाद सरकार को फैसला वापस लेने के लिए बाध्य होना पड़ा। भाजपा आम जन के लिए एक सशक्त विपक्ष की भूमिका का निर्वहन करते हुए सरकार के काले फैसलों के विरोध करते आई है और भविष्य में भी करेगी।

कांग्रेस झामुमो की सरकार तुष्टिकरण में इतना डूब गई है कि लगातार जन विरोधी फैसले ले रही है। दुर्गा पूजा के दौरान भी सरकार ने मूर्ति की साइज पर अपनी थोथी दलील देते हुए बैन कर दिया। कोरोना काल में एक लाख का फाइन सरकार की नीतियों पर सवाल उठाता है।

राज्य की सरकार दिशाविहीन सरकार है। इसमें नेतृत्व क्षमता का अभाव स्पष्ट दिख रहा है।
गौरतलब है कि राज्य सरकार की ओर से जारी गाइड लाइन का विरोध लगातार तेज होता जा रहा था।

शहर से गांव तक हर ओर इसके खिलाफ आवाज उठने लगी थी। विरोध को देखते हुए घाटों पर छठ पूजा मनाने को लेकर हेमंत सरकार की गाइडलाइन में मंगलवार की शाम बदलाव कर दिया गया। इसकी घोषणा कर दी गयी है।

इसके तहत सरकार ने लोगों को घाटों पर शारीरिक दूरी के साथ कम संख्या में उपस्थित होकर छठ पूजा करने की इजाजत दे दी है।

Share This Article