जज मौत मामले में CBI हर एंगल पर करेगी जांच, HC ने कहा- जल्द से जल्द मामले का नहीं हुआ खुलासा, तो यह न्याय व्यवस्था के लिए ठीक नहीं होगा

CBI ने कोर्ट को बताया गया कि CBI के कई अधिकारी इस केस पर काम कर रहे हैं और जिन जिन पर सीबीआई को संदेह हो रहा है उनसे पूछताछ की जा रही है

रांची: धनबाद के जज उत्तम आनंद की संदेहास्पद मौत मामले में झारखंड हाई कोर्ट में सुनवाई हुई। चीफ जस्टिस डॉ रविरंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ में गुरुवार को सुनवाई हुई।

सुनवाई के दौरान सीबीआई CBI के ज्वाइंट डायरेक्टर अदालत में वीसी के माध्यम से उपस्थित होकर अदालत को अब तक की जांच की जानकारी दी।

सीबीआई ने कोर्ट को बताया गया कि सीबीआई CBI के कई अधिकारी इस केस पर काम कर रहे हैं और जिन जिन पर सीबीआई को संदेह हो रहा है उनसे पूछताछ की जा रही है।

सीबीआई इस बिंदु पर भी जांच कर रही है कि जानबूझकर ऑटो से टक्कर मारी गई या फिर यह घटना कैसे हुई।

ज्वाइंट डायरेक्टर ने अदालत से कहा कि सीबीआई इस मामले के हर एंगल पर जांच कर रही है।

न्यायिक पदाधिकारियों का मोरल डाउन हुआ है

हाई कोर्ट ने मौखिक रूप से टिप्पणी करते हुए कहा कि इस घटना से न्यायिक पदाधिकारियों का मोरल डाउन हुआ है। यदि जल्द से जल्द इस मामले का खुलासा नहीं हुआ, तो यह न्याय व्यवस्था के लिए ठीक नहीं होगा।

इसके साथ ही हाईकोर्ट ने इस बात को लेकर भी चिंता जताई कि पहली बार ऐसा हुआ है कि किसी जज की हत्या की गई है। अदालत ने अगले सप्ताह प्रगति रिपोर्ट पेश करने का निर्देश सीबीआई को दिया।

पिछली सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा था कि अब तक की जांच से हाईकोर्ट संतुष्ट नहीं है। जांच आगे नहीं बढ़ पा रही हैं।

अब तक सिर्फ 2 लोगों की गिरफ्तारी हो पाई है। ऑटो रिक्शा ड्राइवर ने जज को धक्का मार के हत्या क्यों की यह मिस्ट्री अभी तक सुलझ नहीं पाई है।

इसके साथ ही हाई कोर्ट ने कहा था कि सीबीआई हर सप्ताह जो स्टेटस रिपोर्ट रिपोर्ट दायर कर रही है वह संतोषजनक नहीं है। जुडिशल ऑफिसर की हत्या हुई है हमें परिणाम चाहिए।

उल्लेखनीय है कि 28 जुलाई की सुबह करीब पांच बजे धनबाद में सुबह की सैर पर निकले एडीजे उत्तम आनंद को एक ऑटो ने पीछे से आकर जोरदार टक्कर मारी थी। इस घटना में जज उत्तम आनंद की मौत हो गई थी।

यह पूरी वारदात वहां लगे एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई थी। जिसकी फुटेज किसी साजिश की ओर इशारा कर रही थी। सीसीटीवी फुटेज से साफ हुआ था कि जज उत्तम आनंद को जान बूझकर ऑटो से टक्कर मारकर हत्या की गई थी।

जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लिया है। हाई कोर्ट इस मामले की लगातार मॉनिटरिंग कर रहा है।

झारखंड पुलिस द्वारा प्रारंभिक दौर में इस मामले की जांच की जा रही थी। जिसके बाद सीबीआई ने इस केस को ले लिया है। सीबीआई की टीम लगातार इस मामले में अपनी जांच कर रही है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button