भारत

16 साल की काम्या कार्तिकेयन ने माउंट एवरेस्ट को किया फतह, लहराया तिरंगा

मुंबई की रहने वाली 16 वर्षीय पर्वतारोही काम्या कार्तिकेयन दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट फतह करके एक कीर्तिमान स्थापित कर दिया है। टाटा स्टील फाउंडेशन की पर्वतारोही काम्या ने भारतीय समय के मुताबिक

Kamya Karthikeyan Conquered Mount Everest: मुंबई की रहने वाली 16 वर्षीय पर्वतारोही काम्या कार्तिकेयन दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट फतह करके एक कीर्तिमान स्थापित कर दिया है। टाटा स्टील फाउंडेशन की पर्वतारोही काम्या ने भारतीय समय के मुताबिक, सोमवार (20 मई) को दिन में 12:35 बजे एवरेस्ट की चोटी पर तिरंगा लहराया। इसके बाद उसने टाटा स्टील का भी झंडा फहराया। इस समिट में काम्या के पिता भी शामिल थे।  दोनों पिता-पुत्री शाम 4:10 बजे तक बेस कैंप-4 में लौट आएंगे।

काम्या के पिता एस कार्तिकेयन भारतीय नौसेना में कमांडर

उन्हें अपने पिता से पर्वतारोहन की प्रेरणा मिली है।  मुंबई जैसे शहर में अक्सर जाम की स्थिति उत्पन्न होती थी।  ऐसे में उनके पिता ज्यादातर पहाड़ों में चढ़ना पसंद करते थे।

पिता पर्वतारोहण पर जाने के दौरान कई बार महिनों भर बाद वापस लौटते थे। इन्ही सब बातों को लेकर उसने पर्वतारोहण की शुरुआत की। काम्या के लिए इस उम्र में माउंट एवरेस्ट के शिखर पर पहुंचने का पहला प्रयास है। हम सब आशा करते है की वे सफलता पूर्वक हिमालय की चोटी में भारत का तिरंगा लहरा कर लौटे।

काम्या ने साल 2020 में दक्षिण अमेरिका की सबसे ऊंची चोटी माउंट एकांकागुआ फतह करके सभी को चौंका दिया था।  उस समय वह महज 12 वर्ष की थीं। ऐसा करने वाली वो दुनिया की सबसे कम उम्र की लड़की बन गई थी।  यह चोटी एशिया के बाहर सबसे ऊंची चोटी है।

6962 मीटर की ऊंचाई वाली माउंट एकॉन्कागुआ चोटी पर काम्या ने 1 फरवरी, 2020 को फतह किया और भारत का तिरंगा लहराया था।  काम्या को एवरेस्ट एक्सपीडिशन के लिए टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन ने लद्दाख एक्सपीडिशन के दौरान सलेक्ट किया था। काम्या महज तीन साल की उम्र से पर्वतारोहण कर रही हैं।

 

 

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker