बिहार में मांझी के बाद सहनी ने बढ़ाई MDA की टेंशन

पटना: बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में चल रही एनडीए सरकार में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है।

गाहे-बगाहे सरकार की सहयोगी पार्टियां अपने रुख से इन अटकलों को हवा देते रहते हैं।

हाल ही में जीतन राम मांने बांका की घटना पर बीजेपी को नसीहत दी जिसपर भाजपा ने भी पलटवार किया था।

अब वीआईपी पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी ने सरकार की टेंशन बढ़ाने का काम किया है।

सहनी ने बिना नाम लिए बीजेपी नेताओं को अनावश्यक बयानबाजी की बजाय जनता से किए 19 लाख के रोजगार पर काम करने की सलाह दी है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘एनडीए गठबंधन के साथीगणों से अनुरोध है कि अनावश्यक बयानबाजी से बचें एवं हम सब मिलकर बिहार की जनता से किए गए 19 लाख रोजगार के वादे पर काम करें।

इसके अलावा खबर है कि सहनी ने शुक्रवार को आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव से फोन पर बात की है।

जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो एक चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा कि इसे पर्दे में ही रहने दीजिए।

बांका की घटना पर उन्होंने कहा कि यह जांच का विषय है।  जांच एजेंसी पहले घटना की जांच कर ले फिर हमें उसपर प्रतिक्रिया देनी चाहिए।

वीआईपी नेता ने कहा कि बहुत से नेता अलग-अलग मुद्दों पर बयान दे रहे हैं जो सही नहीं है। हमने जनता से 19 लाख रोजगार देने का वादा किया है इसलिए वादे के अनुसार हमें उसपर ध्यान देना चाहिए।

यदि किसी साथी को ये वादा याद नहीं है तो उन्हें इसे याद दिलाना कोई बड़ी बात नहीं है।  लालू से हुई बातचीत के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने इसे पर्दे के पीछे रहने दीजिए कहकर टाल दिया।

वहीं सहनी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को एक पत्र लिखा है जिसमें जनप्रतिनिधियों को पूर्व की भांति ऐच्छिक कोष की धनराशि खर्च करने की शक्ति प्रदान किए जाने की अपील की है।

Back to top button