तापसी पन्नू ने सेंट पीटर्सबर्ग में भी किसी वेस्टर्न ड्रेस की बजाय साड़ी को चुना, सोशल मीडिया पर तारीफ

मुंबई: तापसी पन्नू ने एक बार फिर दिल लूटा है। विदेशी सरजमीन पर उनके देसी अवतार को देख सोशल मीडिया पर तारीफ की बारिश हो रही है।

तापसी इन दिनों रूस में हैं। मॉस्को के बाद उन्होंने सेंट पीटर्सबर्ग में भी किसी वेस्टर्न ड्रेस की बजाय साड़ी को चुना है।

शहर की सड़कों पर साड़ी और स्नीकर्स में तापसी को देख, जहां एक ओर फैन्स उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे हैं, वहीं बहुत से यूजर्स ने इसे देश की अस्मिता और संस्कृति से जोड़कर यहां तक कहा है कि उन्हें बॉलिवुड की हसीन दिलरुबा तापसी पन्नू पर गर्व है।

तापसी पन्नू ने खुद अपना ये देसी अवतार इंस्टाग्राम पर फैन्स के साथ शेयर किया है। तापसी तस्वीर में लाइट येलो साड़ी के साथ नीले रंग की ब्लाउज और आंखों पर काले चश्मे के साथ स्नीकर्स शूज में नजर आ रही हैं।

तापसी ने अपने इस लुक को शेयर करते हुए लिखा, ये गलियां काफी मनमोहक हो सकती हैं। रात के खाने के लिए देर हो गई! दौड़ो! तापसी ने इसके साथ ही इंस्टाग्राम स्टोरी पर भी सेंट पीटर्सबर्ग में अपनी यात्रा की कई तस्वीरें शेयर की हैं।

वह इससे पहले मॉस्को में थीं। वहां भी तापसी ने नीली साड़ी में सभी का दिल जीत लिया था। तापसी पन्नू इन दिनों छुट्टियां मनाने रूस गई हुई हैं। तापसी ने वहां ऐक्ट्रेस श्रिया सरन और उनके पति आंद्रेई कोशी से भी मुलाकात की।

शिवाजी- द बॉस, आवारापन और मिशन इस्तांबुल जैसी फिल्मों में काम कर चुकीं श्रिया पति के साथ स्पेन में रहती हैं। हालांकि, दोनों जल्द ही भारत में री-लोकेट होने की तैयारी कर रहे हैं।

तापसी पन्नू ने इंस्टाग्राम स्टोरी पर खुलासा किया कि वह श्रिया और उनके पति आंद्रेई से मिलीं। तापसी ने इस मुलाकात की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि सेंट पीटर्सबर्ग में यह एक प्यारी मुलाकात थी। जल्द ही मुंबई में मिलते हैं।

वर्क फ्रंट की बात करें तो तापसी पिछली बार थप्पड़ फिल्म में नजर आई थीं। जबकि उनकी फिल्म हसीन दिलरुबा जल्द ही ओटीटी प्लेटफॉर्म नेटफिलिक्स पर 2 जुलाई को रिलीज होने वाली है।

विनिल मैथ्यु के डायरेक्श में बनी यह फिल्म एक मर्डर मिस्ट्री है। फिल्म में तापसी के साथ विक्रांत मैसी और हर्षवर्धन राणे हैं। इसके अलावा तापसी की झोली में आगे लूप लपेटा, रश्मि रॉकेट, दोबारा और शाबाश मिठू जैसी फिल्में हैं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button