हमें कार्यक्रम नहीं, रोजगार चाहिए’ कहते हुए CM हेमंत सोरेन के कार्यक्रम में युवाओं ने जमकर की नारेबाजी, कुर्सियां फेंकी, जूते-चप्पल भी चलाये

मौका था हेमंत सोरेन सरकार के ‘आपके अधिकार- आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम का

हजारीबाग: रोजगार की बाट जोह रहे युवाओं की नाराजगी का सामना मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को करना ही पड़ गया।

युवाओं ने हेमंत सोरेन के सामने न सिर्फ रोजगार देने की मांग करते हुए हूटिंग की, बल्कि उनके खिलाफ जमकर नारे भी लगाये। यहां तक कि मुख्यमंत्री के कार्यक्रम स्थल पर नाराज युवाओं ने कुर्सियां भी फेंकीं, चप्पल-जूते भी फेंके और पत्थराव भी किया।

मौका था हेमंत सोरेन सरकार के ‘आपके अधिकार- आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम का। शनिवार को हजारीबाग में आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन समेत अन्य मंत्री-विधायक और अधिकारी मौजूद थे।

इस कार्यक्रम में कई युवा रोजगार के मुद्दे पर हेमंत सोरेन सरकार का विरोध कर रहे थे। दावा किया जा रहा है कि ये सभी युवा स्टूडेंट्स हैं।

उन युवाओं ने हेमंत सोरेन के कार्यक्रम के दौरान जमकर हूटिंग की। “हमें रोजगार दो, हमें कार्यक्रम से कोई मतलब नहीं है” के नारे लगाते हुए युवा हूटिंग कर रहे थे।

इस दौरान युवाओं का आक्रोश इतना बढ़ गया कि उन्होंने कार्यक्रम स्थल पर जूते-चप्पल और कुर्सियां फेंकने शुरू कर दिये। पथराव भी किये।

यह सब देख वहां मौजूद प्रशासनिक अधिकारी भी हरकत में आये और युवाओं को समझाने का प्रयास किया। युवाओं पर इसका असर नहीं हुआ, तो प्रशासन ने थोड़ी सख्ती भी बरती। फिर भी युवा नारेबाजी और हूटिंग करते रहे।

युवाओं का आक्रोश देख मंच से ही मंत्री और विधायक ने भी उनसे शांति व्यवस्था कायम रखने अपील की। इस दौरान श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने युवाओं को समझाते हुए कहा, “मुख्यमंत्री खुद आपके द्वार पर पहुंचे हैं, आपकी समस्याओं का समाधान जरूर होगा।

आपके अधिकार- आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम महत्वपूर्ण कार्यक्रम है।” इस पर विरोध कर रहे युवाओं ने कहा कि उन्हें कार्यक्रम से कोई मतलब नहीं है, उन्हें रोजगार चाहिए।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button