झारखंड

झारखंड में 14 साल के बच्चे ने वीडियो गेम हारने पर की खुदकुशी

पश्चिमी सिंहभूम: चक्रधरपुर के रेलवे कॉलोनी (Railway Colony) में वीडियो गेम (Video game) में हारने से परेशान 14 वर्षीय बच्चे ने खुदकुशी (Suicide) कर ली।

रेलवे कॉलोनी निवासी एस श्रीधर का पुत्र एम शिवेन ऑनलाइन वीडियो गेम (Online Video Games) खेल रहा था। इस दौरान उसे हार का सामना करना पड़ा। इससे परेशान होकर घर में फंदे पर लटक गया।

इस घटना से माता-पिता को गहरा सदमा लगा है। दोनों बदहवास और कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं हैं। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि चक्रधरपुर के रेलवे कॉलोनी में वीडियो गेम में बार बार हारने के चलते परेशान होकर 14 वर्षीय बच्चे ने फांसी लगा ली। एस श्रीधर के बेटे शिवेन ऑनलाइन वीडियो गेम खेलते हुए आत्महत्या की।

परिवार के लोग उसे वीडियो गेम (Video Games) नहीं खेलने के लिए समझाते थे, लेकिन वह मानता नहीं था। बच्चा इतना बड़ा कदम उठा लेगा परिवार के किसी सदस्य ने सोचा नहीं था।

video game suicide

घटना के समय भी ON था वीडियो गेम

बताया जाता है कि माता पिता के ड्यूटी चले जाने के बाद शिवेन दरवाजा बंद करके वीडियो गेम (Video Games) खेल रहा था। घटना का पता तब चला जब दोपहर में जब उसके पिता एस. श्रीधर घर पहुंचे और दरवाजा खोलने के लिए बेटे को आवाज लगाई।

काफी देर तक आवाज लगाते रहने के बाद भी जब शिवेन ने दरवाजा नहीं खोला तो उन्हें डर लगने लगा। उन्होंने किसी तरह कमरे की खिड़की को खोला।

कमरे में बच्चे को फांसी के फंदे से झूलता देख वह जोर-जोर से चिखने लगे। पिता की आवाज सुनकर आस पास के लोग मौके पर पहुंचे और दरवाजे को तोड़ा।

आनन फानन में एम. शिवेन को चक्रधरपुर के रेलवे अस्पताल (Railway Hospital) ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मौके पर पहुंचे लोगों ने देखा कि वीडियो गेम आन था।

पुलिस ने मामला दर्ज करके छानबीन शुरू की है। लड़का तबियत खराब होने की बात कह कर स्कूल नहीं गया था।

गेम खेलते-खेलते कभी हंसता और कभी मायूस हो जाता

परिवार वालों का कहना है कि वह हमेशा ऑनलाइन गेम (Online Games) खेलता था। गेम खेलते-खेलते कभी हंसता और कभी मायूस हो जाता था। परिवार के लोग उसे समझाते भी थे, लेकिन वह इतना बड़ा कदम उठायेगा, किसी ने सोचा भी नहीं था।

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker