झारखंड

रांची के डोरंडा में यहां शादी में हुई थी हत्या, आरोपी आलोक प्रधान उर्फ कादर ने किया सरेंडर

अधिवक्ता प्रित्यांशु सिंह ने उसे अदालत में सरेंडर कराया

रांची: हिनू के न्यू सचिवालय कॉलोनी में बारात में डांस के दौरान हजारीबाग निवासी जगदीश यादव की हत्या के आरोपित आलोक प्रधान उर्फ कादर ने न्यायिक दंडाधिकारी प्रवीण उरांव की अदालत में शुक्रवार को सरेंडर कर दिया। उसे 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

वह हिनू स्थित पीएचडी कॉलोनी का रहनेवाला है। वह मूल रूप से बक्सर का रहने वाला है। अधिवक्ता प्रित्यांशु सिंह ने उसे अदालत में सरेंडर कराया।

बताया जाता है कि घटना के बाद से ही आलोक प्रधान के परिवार के लोग अधिवक्ताओं से संपर्क में थे। पुलिस से बचा कर उसे अदालत में सरेंडर कराया गया।

अदालत में तीन दिनों के रिमांड के लिए आवेदन दिया जायेगा

उल्लेखनीय है कि बीते सोमवार की देर रात हजारीबाग के कटकमसांडी के बहिमर गांव निवासी वीरेंद्र राणा की शादी हिनू के न्यू सचिवालय कॉलोनी में मुकेश शर्मा की पुत्री से थी।

वीरेंद्र राणा का दोस्त जगदीश यादव भी बारात में आया था। इसी दौरान विवाद के बाद जगदीश यादव को चार गोली मारी गयी थी, जिससे उसकी मौत हो गयी थी।

पुलिस ने शादी की वीडियो को देख उसकी पहचान की थी। मुहल्ले के लोगों और कन्या पक्ष की ओर से शादी में शामिल लोगों से भी उसकी पहचान करायी थी।

वहीं दूसरी ओर डाेरंडा थाना प्रभारी रमेश कुमार सिंह ने कहा कि आलाेक प्रधान उर्फ कादर को रिमांड पर लिया जायेगा।

इसके लिए शनिवार को अदालत में तीन दिनों के रिमांड के लिए आवेदन दिया जायेगा। रिमांड पर लेने के बाद उससे हथियार बरामदगी के लिए पूछताछ की जायेगी।