काम से हटाए जाने के बाद रिम्स में नर्सों का हंगामा

रांची: राजधानी रांची स्थित रिम्स अस्पताल में मंगलवार को नर्सों ने जमकर हंगामा किया। नर्सों का आरोप है कि इन्हें पहले नियमों की अनदेखी कर नियुक्त किया गया और एक महीने काम भी कराया गया।

नर्सों का आरोप है कि जब जिले में कोविड-19 पर काबू पा लिया गया तो इन्हें निकालने की तैयारी चल रही है। इसी को लेकर नर्सों ने हंगामा किया। क

हा जा रहा है कि अब इनकी कोई जरूरत नहीं है, जबकि नियुक्ति के समय उन्हें बताया गया था कि तीन महीने से एक साल तक इन्हें सेवा विस्तार दिया जाएगा।

इन्हें नियुक्त करने वाली कंसलटेंसी कंपनी टी एंड एम से इस संबंध में संपर्क करने का प्रयास किया गया तो उन्होंने इसका जवाब नहीं दिया।

झारखंड सरकार ने सोमवार को ही रिटायर होने वाले डॉक्टरों को कोविड-19 के मद्देनजर छह महीने का सेवा विस्तार दिया है।

काम से हटाए जाने के बाद मंगलवार को 125 की संख्या में एएनएम नर्सों ने रिम्स के मेट्रोन कार्यालय के पास हंगामा किया। नर्सों का कहना है कि संकट की घड़ी में हमें आनन-फानन में बहाल कर लिया गया।

एक महीने तक काम करवाया गया और अब कहा जा रहा है कि आपकी जरूरत नहीं।

नर्सों का यह भी कहना है कि एक महीना काम करने के बाद भी सैलरी नहीं मिली है ना ही हमें नियुक्ति पत्र दिया गया है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button