एक्शन में अंबा! हॉस्पिटल में डॉक्टर नहीं बैठते, अपने घर में रहते हैं, अस्पताल में कोरोना जांच की सुविधा नहीं, डीसी को लगाया फोन

रामगढ़: कोरोना की दूसरी लहर से झारखंड लगभग एक महीने से लड़ रहा है।

पहले अस्पताल और स्वास्थ्य सुविधा दुरुस्त करने के लिए जिला प्रशासन ने काफी मशक्कत की।

अब जनप्रतिनिधि भी एक्शन में आ गए हैं।

बड़कागांव विधायक अंबा भी शनिवार रात सीसीएल अस्पताल नयानगर में स्वास्थ्य सुविधा दुरुस्त कराने के लिए एक्शन में दिखी।

उन्हें सूचना मिली थी की अस्पताल में मरीजों पर चिकित्सक ध्यान नहीं दे रहे।

छोटे-मोटे मशवरे के लिए भी मरीजों को कई दिन चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।

मरीजों की शिकायत पर विधायक अंबा खुद ही बरकाकाना, नयानगर स्थित सीसीएल अस्पताल पहुंच गई। विधायक ने स्वास्थ्य सेवाओं का निरीक्षण किया।

अंबा प्रसाद ने मौजूद चिकित्सकों एवं पदाधिकारियों से प्रतिदिन आने वाले मरीजों की संख्या एवं दी जाने वाली उपचार की जानकारी ली।

इलाज कराने पहुंचे लोगों ने विधायक के समक्ष डॉक्टर के ना रहने एवं इलाज में किसी भी तरह का ध्यान नहीं देने की शिकायत की।

लोगों ने बताया कि सिर्फ बीपी चेक करवाने के लिए भी काफी दिन दौड़ना पड़ता है।

हॉस्पिटल में डॉक्टर नहीं बैठते, अपने घर में रहते हैं। विधायक अंबा प्रसाद ने इस पर मौजूद चिकित्सक एवं अधिकारियों को सख्त हिदायत देते हुए व्यवस्था को जल्द से जल्द सुधारने की बात कही।

डीसी को लगाया फोन, कोरोना जांच किट के साथ पहुंचे कर्मचारी

मौके पर मौजूद लोगों ने अस्पताल में कोरोना जांच की सुविधा नहीं होने की बात कही।

अंबा प्रसाद ने तुरंत पहल करते हुए उपायुक्त से बात करके जल्द ही अस्पताल में कोरोना जांच शुरू करवाने की बात कही।

उपायुक्त ने जल्द कोरोना जांच किट भेज कर जांच प्रक्रिया शुरू करने का आश्वासन दिया।

अस्पताल परिसर का निरीक्षण करने के दौरान गैरेज में पड़े एंबुलेंस को जनता की सेवा में लगाने के लिए अंबा प्रसाद ने अस्पताल प्रबंधन को कहा।

पदाधिकारी नियमित रूप से करें अस्पताल का निरीक्षण

विधायक अंबा प्रसाद ने अस्पताल के पदाधिकारियों से कहा कि वे स्वयं भी अस्पताल का नियमित निरीक्षण करें।

किसी भी प्रकार की कोई लापरवाही करते पाया जाता है और मरीजों द्वारा शिकायत प्राप्त होती है तो ऐसे कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करें।

उन्होंने कहा मैं भी खुद नियमित रूप से निरीक्षण करती रहूंगी।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button