क्या फिर से लगना चाहिए देश में Lockdown! जानें एक्सपर्ट की राय

7 राज्यों की स्थिति हो चुकी भयावह

नई दिल्ली : देश में Corona एक बार फिर तेजी से पैर पसार रहा है। करीब 7 राज्यों की स्थिति भयावह हो चुकी है। ओमिक्रोन वेरिएंट तेजी से फैलने से हर किसी के मन में यह सवाल है कि आखिर देश में क्या फिर Lockdown लग सकता है।

वैज्ञानिकों की मानें तो फिलहाल देश के 7 राज्यों में R वैल्यू 3 से ऊपर है यानी इसे कोरोना संक्रमण की विस्फोटक स्थिति माना जा सकता है। देश में पहले दो लॉकडाउन पर नजर डालें तो देश में कोरोना के हालात पहले से ज्यादा खराब हो रहे हैं।

ऐसे क्या देश फिर से तीसरे लॉकडाउन की कगार पर पहुंच गया है? क्या सरकार तीसरे लॉकडाउन की तैयारी कर रही है? आखिर इस पर सरकार की क्या रणनीति होगी? कोरोना से निपटने के लिए क्या है सरकार की तैयारी? ऐसे तमाम सवाल इन दिनों लोगों के मन में है। आइए जानते हैं कि देश की स्थिति पर नजर रखने वाले जानकार इस बारे में क्या कहते हैं –

फिलहाल देश में स्वास्थ्य ढांचा मजबूत

क्या फिर से लगना चाहिए देश में Lockdown! जानें एक्सपर्ट की राय

गाजियाबाद स्थित यशोदा अस्पताल के MD डॉ. पीएन अरोड़ा का कहना है कि फिलहाल देश में स्वास्थ्य ढांचा मजबूत हुआ है। देश में आज करीब 18.03 लाख आइसोलेशन बेड है। साथ ही 1.24 आईसीयू बेड भी है। इसके अलावा 3,236 ऑक्सीजन प्लांट हैं, जिनकी क्षमता 3,783 मीट्रिक टन है।

केंद्र ने राज्य सरकार को 1.14 लाख ऑक्सीजन कंसंट्रेट उपलब्ध कराए हैं। 150 करोड़ वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। इसमें भी 64 फीसदी आबादी को एक डोज और 46 फीसदी आबादी को वैक्सीन की दो डोज मिल चुकी हैं। इसलिए संक्रमण बढ़ने की स्थिति में भी सख्त लॉकडाउन लगने की संभावना काफी कम है।

क्या फिर से लगना चाहिए देश में Lockdown! जानें एक्सपर्ट की राय

सख्ती से हो गाइडलाइन पालन

डॉक्टरों के मुताबिक तीसरी बार लॉकडाउन से बचने के लिए लोगों को चाहिए कि सरकार के दिशा-निर्देशों और सुझावों का सख्ती से पालन करें।

कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना होगा। डॉ. पीएन अरोड़ा के मुताबिक राहत की बात ये है कि भले ही देश में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है, लेकिन दूसरी लहर के मुकाबले संक्रमित लोगों के अस्पताल में भर्ती होने का अनुपात काफी धीमा है।

देश में दूसरे लॉकडाउन के बाद देश में स्वास्थ्य सुविधाओं की क्षमता में इजाफा हुआ है। कुछ राज्यों को छोड़कर पहले जैसी दहशत नहीं है। दिल्ली, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति बेहद खराब हो चुकी है। इसके बाद झारखंड, बिहार, यूपी, राजस्थान, गुजरात और हरियाणा में नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

क्या फिर से लगना चाहिए देश में Lockdown! जानें एक्सपर्ट की राय

टीकाकरण अनिवार्य

मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, महाराष्ट्र और गुजरात में रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है। मप्र में स्कूलों और कॉलेजों में 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ अन्य प्रतिबंध लगाए गए हैं।

साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर जाने के लिए टीकाकरण अनिवार्य कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश में आठवीं तक के स्कूल बंद कर दिए गए हैं। समारोहों में 200 लोगों को अनुमति है।

दिल्ली में स्कूल-कॉलेज बंद हैं। दिल्ली में वर्क फ्रॉम होम की व्यवस्था की गई है। गुजरात में स्कूल-कॉलेज खुले हैं, लेकिन सार्वजनिक जगहों पर टीकाकरण अनिवार्य कर दिया गया है।

क्या फिर से लगना चाहिए देश में Lockdown! जानें एक्सपर्ट की राय

अस्पताल में मरीजों की भर्ती काफी कम

पहले लॉकडाउन के फॉर्मूले के मुताबिक तो केंद्र सरकार को अब तक लॉकडाउन लगा देना चाहिए, जिससे संक्रमण की गति को नियंत्रित किया जा सकता है। लेकिन तीसरी लहर के दौरान 6 जनवरी तक मामलों के दोगुने होने की दर घटकर 454 दिन रह गई और इस दौरान रोजाना कोरोना संक्रमण के मामलों में 18 गुना वृद्धि हुई है, लेकिन स्थिति अब भी नियंत्रण में है। अस्पताल में मरीजों की भर्ती काफी कम हो रही है, इस कारण पूर्ण लॉकडाउन लगने की संभावना काफी कम है।

यह भी पढ़ें : BSNL ने जारी की अप्रेंटिस के पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन, जानें योग्यता और अन्य डिटेल 

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button