झारखंड

शी चिनफिंग का एपेक बिजनेस सीईओ समिट में भाषण

बीजिंग: चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 19 नवम्बर को पेइचिंग में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एपेक बिजनेस सीईओ समिट में भाग लेकर भाषण दिया। उन्होंने बल देते हुए कहा कि विश्व एक अविभाजित साझे भाग्य वाला समुदाय है, हमें महामारी-रोधी अंतरराष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करना चाहिए, वैश्विक आर्थिक पुनरुद्धार को आगे बढ़ाना चाहिए।

चीन सक्रिय रूप से नए विकास ढांचे की स्थापना करेगा, खुलेपन पर डटा रहेगा, विभिन्न देशों के साथ आपसी लाभ और उभय जीत को बखूबी अंजाम देगा, ताकि एशिया-प्रशांत और विश्व के और सुनहरे भविष्य का सह-निर्माण किया जा सके।

नए विकास ढांचे की स्थापना, आपसी लाभ उभय जीत की प्राप्ति शीर्षक भाषण में शी चिनफिंग ने कहा कि कोविड-19 महामारी से एक बार फिर जाहिर हुआ है कि मानव जाति साझे भाग्य वाला समुदाय है, विभिन्न देशों के हित घनिष्ठ रूप से जुड़े हुए हैं, विश्व एक अविभाजित भाग्य का समुदाय है।

उन्होंने कहा कि चीन विकास के नए चरण में प्रवेश कर चुका है, इसके चलते सुधार का नया मिशन सामने आया है। हम ज्यादा साहस के साथ अधिक कदम अपनाकर प्रणालीबद्ध बाधाओं को दूर कर राष्ट्रीय शासन व्यवस्था और शासन क्षमता के आधुनिकीकरण को आगे बढ़ाएंगे।

शी चिनफिंग ने यह भी कहा कि खुलापन देश की प्रगति की पूर्वशर्त है। द्वार बंद करने से आगे नहीं जाया जा सकता है। चीन विश्व अर्थव्यवस्था और अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के साथ गहराई से घुल गया है। अब चीन पीछे मुड़कर नहीं देखेगा। चीन विश्व से अलग नहीं होगा और दूसरे का बहिष्कार करने वाला या बंद होने वाला छोटा गुट नहीं बनाएगा ।

अपने भाषण में शी चिनफिंग ने कहा कि चीन एक नया विकास ढांचा बना रहा है, जो खुला, पारस्परिक संवर्धन वाला घरेलू और विदेशी दोहरा चक्र है। नए विकास ढांचे के तहत चीनी बाजार क्षमता पूरी तरह से उत्तेजित हो सकेगी, जिससे विश्व के विभिन्न देशों के लिए ज्यादा मांग को मुहैया करवाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस वर्ष एकतरफावाद और संरक्षणवाद का विस्तार हो रहा है, लेकिन चीन के खुलेपन में कोई रुकावट नहीं आई, इसके विपरीत चीन ने खुलेपन के विस्तार के लिए सिलसिलेवार नीतियां और कदम उठाए।

जिनमें विदेशी व्यापार निवेश कानून और संबंधित नियमों का व्यापक तौर पर कार्यान्वयन, विदेशी निवेश की पहुंच की नकारात्मक सूची को और कम करना, वित्त बाजार में प्रवेश को स्थिर रूप से आगे बढ़ाना आदि शामिल हैं।

शी चिनफिंग ने कहा कि चीन श्रम के अंतर्राष्ट्रीय विभाजन में अधिक सक्रिय रूप से भाग लेगा, वैश्विक औद्योगिक श्रृंखला, आपूर्ति श्रृंखला और मूल्य श्रृंखला में अधिक प्रभावी रूप से हिस्सा लेगा, और विदेशी आदान-प्रदान व सहयोग का ज्यादा सक्रिय रूप से विस्तार करेगा। जो देश, क्षेत्र, उद्योग चीन के साथ सहयोग करना चाहता है, हम उनके साथ सक्रिय रूप से सहयोग करेंगे।

शी चिनफिंग ने आगे कहा कि एशिया और प्रशांत क्षेत्र के विभिन्न देशों के बीच आवागमन की सुविधा और महासागर पार करने वाला भौगोलिक लाभ भी है। एशिया और प्रशांत क्षेत्र के विकास और क्षेत्रीय आर्थिक सहयोग में निश्चय ही मजबूत जीवंत शक्ति बनी रहेगी।

हमें समान समुदाय की चेतना को मजबूत कर निरंतर क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण को बढ़ाना, नवाचार के विकास को गति देना, क्षेत्रीय पारस्परिक संपर्क बढ़ाना, समावेशी और निरंतर विकास पूरा करना और ²ष्टिकोण को कदम ब कदम यथार्थता में बदलना चाहिए, ताकि इस क्षेत्र की जनता को अधिक लाभ मिल सके।

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker