UGC ने जारी किया नये सत्र का शैक्षणिक कैलेंडर, पहली अक्टूबर से लगने लगेंगी कक्षाएं

नई दिल्ली: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए 2021-22 के नए सत्र के लिए दाखिले और परीक्षाओं को लेकर नए दिशा-निर्देश और शैक्षणिक कैलेंडर जारी किया है।

नोटिस के मुताबिक प्रथम वर्ष की कक्षाएं एक अक्टूबर से शुरू होंगी।

आयोग ने सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को 30 सितंबर तक स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश प्रक्रिया पूरी करने का निर्देश दिया है।

पहले सेमेस्टर की कक्षाएं एक अक्टूबर या उससे पहले शुरू होंगी। रिक्त सीटों को भरने की अंतिम तिथि 31 अक्टूबर है।

यूजीसी ने कहा है कि स्नातक के द्वितीय व तृतीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर के द्वितीय वर्ष के छात्रों की कक्षाएं जल्द से जल्द ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड से शुरू होनी चाहिए।

सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को (2020-2021) सत्र के लिए टर्मिनल सेमेस्टर और फाइनल ईयर सेमेस्टर की परीक्षाएं 31 अगस्त 2021 तक ऑनलाइन या ऑफलाइन (पेन पेपर मोड) या फिर ब्लेंडेड मोड से संपन्न करा लेनी चाहिए। परीक्षाओं का आयोजन कोरोना गाइडलाइंस का पालन करते हुए होना चाहिए।

इसमें कहा गया है कि स्नातक कक्षाओं में दाखिला प्रक्रिया 12वीं बोर्ड रिजल्ट जारी होने के बाद ही शुरू होगी।

सीबीएसई, आईसीएसई और तमाम राज्य शिक्षा बोर्डों के 12वीं के रिजल्ट 31 जुलाई तक दिए जाएंगे।

अधिसूचना में आगे कहा गया है कि नए प्रवेश के लिए दस्तावेज 31 दिसंबर तक जमा किए जा सकते हैं।

इसमें कहा गया है कि यदि 12वीं कक्षा के परिणाम की घोषणा में देरी हो जाती है तो ऐसे में उच्च शिक्षा संस्थान 18 अक्टूबर से नए शैक्षणिक सत्र की योजना बना सकता है।

दस्तावेज में आगे कहा गया है कि उच्च शैक्षणिक संस्थान एक अक्टूबर, 2021 से 31 जुलाई, 2022 के बीच कोरोना महामारी की स्थिति और केंद्र एवं राज्य सरकारों और सक्षम अधिकारियों द्वारा जारी आवश्यक प्रोटोकॉल, दिशा-निर्देशों और सलाह का पालन करते हुए कक्षाओं, ब्रेक, परीक्षाओं के आयोजन, सेमेस्टर ब्रेक आदि की योजना बना सकते हैं।

महामारी के कारण कई अभिभावकों को हो रही वित्तीय कठिनाइयों को ध्यान में रखते हुए आयोग ने विश्वविद्यालय के अधिकारियों से शैक्षणिक सत्र 2021-2022 के लिए एक विशेष मामले के रूप में 31 अक्टूबर, 2021 तक छात्रों से कोई रद्दीकरण शुल्क अथवा प्रवास शुल्क नहीं लेने का आग्रह किया है।

यूजीसी ने उच्च शिक्षा संस्थानों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि शैक्षणिक सत्र 2021-2022 के लिए स्नातक पाठ्यक्रमों व कार्यक्रमों के लिए प्रवेश प्रक्रिया सीबीएसई, आईसीएसई और राज्य बोर्डों द्वारा परिणाम घोषित होने के बाद ही शुरू हो।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्य बोर्डों के साथ-साथ सीबीएसई और सीआईएससीई को निर्देश दिया था कि वे 31 जुलाई से पहले बोर्ड के परिणाम घोषित करें, ताकि कॉलेज प्रवेश के दौरान एक सुगम प्रवेश प्रक्रिया सुनिश्चित हो सके।

नतीजतन, देश भर के विभिन्न कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में प्रवेश अगस्त में शुरू होने की संभावना है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button