भारत

पैगंबर पर विवाद : बिना अनुमति के विरोध करने पर गुजरात में 20 मुस्लिम गिरफ्तार

इलाके में भारी पुलिस बल तैनात किया गया

अहमदाबाद: अहमदाबाद के जुहापुरा इलाके में भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) के बयान के विरोध में बिना अनुमति मार्च निकालने के लिए एकत्र हुए महिलाओं सहित 20 मुस्लिम नेताओं को पुलिस ने रविवार दोपहर गिरफ्तार किया।

पुलिस ने उन्हें घर लौटने के लिए मनाने की कोशिश की, लेकिन जब वे नहीं माने और आगे बढ़ने की कोशिश की, तो पुलिस को भीड़ को तितर-बितर करने के लिए हल्का लाठीचार्ज करना पड़ा।

अहमदाबाद जोन-7 के पुलिस उपायुक्त बी.यू. जडेजा ने मीडिया से कहा, शनिवार शाम से सोशल मीडिया पर जुहापुरा इलाके में आयोजित किए जाने वाले विरोध मार्च के बारे में फर्जी संदेश चल रहे थे।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि कोई अप्रिय घटना न हो, इलाके में पुलिस को काफी पहले से तैनात कर दिया गया था।पुलिस को उम्मीद थी कि बड़ी संख्या में महिलाएं मार्च (Women March) में शामिल होंगी और इलाके में महिला पुलिस भी तैनात की गई थी।

अधिकारी ने कहा कि दोपहर में, जब उन्होंने मार्च करने का प्रयास किया, तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया और कुछ नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया, जबकि बाकी को घर लौटने के लिए राजी कर लिया गया। इलाके में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

गिरफ्तार मुस्लिम नेताओं को अहमदाबाद के वेजलपुर थाने ले जाया गया

एक अन्य घटनाक्रम में सूरत पुलिस ने नूपुर शर्मा के पोस्टर छापने और प्रसारित करने के आरोप में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

ये पोस्टर सूरत शहर के कादरशानी नाल रोड इलाके में पोस्ट किए गए थे, उन्होंने सोशल मीडिया (Social Media) पर पोस्टर का वीडियो भी प्रसारित किया था।

सूरत के उपायुक्त (जोन-3) सागर बागमार ने मीडिया को बताया कि इन पोस्टरों को समाज में सांप्रदायिक दुश्मनी पैदा करने के इरादे से छापा और प्रसारित किया गया, तकनीकी निगरानी के आधार पर इन पांचों लोगों की पहचान की गई और पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

वीडियो और पोस्टर में उन्होंने छापा था, अब हमें गुजरात को उत्तर प्रदेश और झारखंड में बदलने की जरूरत है।