भारत

पुरानी पेंशन की डिमांड को लेकर देश की ट्रेनों के थम सकते हैं पहिए, 1 मई से…

ओल्ड पेंशन सिस्टम (Old Pension System) यानी पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने को लेकर घमासान तेज होता जा रहा है।

Demand for Old Pension:ओल्ड पेंशन सिस्टम (Old Pension System) यानी पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने को लेकर घमासान तेज होता जा रहा है।

रेल कर्मचारी इस मांग को लेकर हड़ताल कर सकते हैं, जिससे भारतीय ट्रेनों के पहिए थमने का खतरा है। रेल कर्मचारियों के संगठनों ने पुरानी पेंशन की मांग को लेकर 1 मई से देशव्यापी हड़ताल का ऐलान किया है।

पुरानी पेंशन की मांग को लेकर हड़ताल का आह्वान रेलवे कर्मचारियों के कई संगठनों ने मिलकर किया है। इसके लिए Railway Employees और वर्कर्स के विभिन्न संगठन जॉइंट फोरम फोर रिस्टोरेशन ऑफ ओल्ड पेंशन स्कीम के बैनर तले एक साथ आए हैं। फोरम ने चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांगें पूरी नहीं की जाती हैं तो वे 1 मई से देश भर में रेलवे का परिचालन ठप कर देंगे।

पुरानी पेंशन को फिर से बहाल करने की मांग को लेकर बने रेलवे यूनियंस के Joint Forum ने इस संबंध में एक बयान जारी किया है। बयान में सरकार पर आरोप लगाया गया है कि वह नई पेंशन योजना की जगह पर पुरानी पेंशन योजना को फिर से बहाल करने की रेलवे कर्मचारियों की मांग पर ध्यान नहीं दे रही है।

फोरम के अनुसार, ऐसे में उनके पास हड़ताल के अलावा और कोई चारा नहीं रह गया है।

फोरम के कंवेनर शिव गोपाल मिश्रा बयान में कहते हैं, ‘सरकार न्यू पेंशन स्कीम को हटाकर Defined Guaranteed Old Pension Scheme को बहाल करने की हमारी मांग को लेकर पूरी तरह से उदासीन है। अब हमारे पास डाइरेक्ट एक्शन लेने के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचा है।’

मिश्रा रेल कर्मचारियों के संगठन All India Railwaymen’s Federation के जनरल सेक्रेटरी भी हैं। उन्होंने कहा कि विभिन्न रेल यूनियन के प्रतिनिधि फोरम के बैनर तले 19 मार्च को रेल मंत्रालय को नोटिस भेजकर प्रस्तावित हड़ताल के बारे में सूचित करेंगे, जिसमें मंत्रालय को बताया जाएगा कि हड़ताल के कारण 1 मई से देश भर में रेल सेवाएं बाधित हो सकती हैं।

मिश्रा का दावा है कि विभिन्न रेल यूनियनों के अलावा सरकारी कर्मचारियों के कई अन्य यूनियन भी प्रस्तावित हड़ताल में हिस्सा ले सकते हैं।

एक मई का महत्व इस कारण भी बढ़ जाता है कि उसी तारीख को दुनिया भर में मजदूर दिवस मनाया जाता है।

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker