मनमोहन सरकार को बदनाम करने के लिए रचा गया फर्जी 2G spectrum घोटाला: सचिन पायलट

कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय पर आयोजित प्रेससवार्ता में पायलट ने कहा कि कोर्ट ने स्पष्ट निर्णय देकर कहा कि 2जी स्पेक्ट्रम व कोल रिपोर्ट में झूठ बोलकर मनमोहन सरकार को बदनाम करने का प्रयास किया गया था

लखनऊ: पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सचिन पायलट ने सोमवार को में पूर्व सीएजी विनोद राय व भाजपा नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि न्यायालय के निर्णय और पूर्व सीएजी द्वारा यूपीए की मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकार के कार्यकाल में ऑडिट रिपोर्ट में लगभग 1 लाख 76 हजार करोड़ रुपये के 2जी स्पेक्ट्रम (2G spectrum) व कोयला घोटाले की फर्जी कहानी का अंत हो गया है।

उन्होंने कहा कि इस मामले में सबसे बड़ी बात यह हुई कि आरोप लगाने वाले पूर्व सीएजी विनोद राय ने कोर्ट को दिए अपने हलफनामें में स्वयं स्वीकार किया है कि इस प्रकरण में तथ्यात्मक गलतियां हुईं और उन्होंने झूठ बोला।

पायलट ने कहा कि मनमोहन सिंह सरकार को बदनाम और अस्थिर करने के लिए एक मनगढ़ंत कहानी विनोद राय ने तैयार की और उस पर भाजपा के नेताओं ने खूब हो-हल्ला मचाया और बदनाम करने का प्रयास किया, लेकिन आज यह साफ हो गया कि मनमोहन सिंह सरकार पूरी तरह साफ-सुथरी और एक ईमानदार सरकार थी।

कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय पर आयोजित प्रेससवार्ता में पायलट ने कहा कि कोर्ट ने स्पष्ट निर्णय देकर कहा कि 2जी स्पेक्ट्रम व कोल रिपोर्ट में झूठ बोलकर मनमोहन सरकार को बदनाम करने का प्रयास किया गया था।

2जी स्पेक्ट्रम व कोयला के फर्जी घोटाले पर हल्ला मचाने वाले आज सरकार में बैठकर मौन हैं, मतलब वे झूठ बोलकर कांग्रेस के नेतृत्व वाली सप्रंग सरकार व जनादेश का अपमान कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि किसानों, बेरोजगारों, महिलाओं के सम्मान व न्याय के लिए प्रियंका संघर्षरत है, यूपी समस्याओं के ढेर पर बैठा है। सरकार उसका समाधान करने के स्थान पर विभाजन की राजनीति करने में विश्वास कर जनता के साथ धोखा कर रही है।

उन्होंने कहा कि यूपी में पार्टी राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने अन्याय के विरुद्ध आवाज उठाई, किसानों के हुए उत्पीड़न के खिलाफ लड़ रही हैं, महिलाओं व बेटियों के सम्मान के लिए वह ढाल बनकर खड़ी हुई है, यहां बदलाव सुनिश्चित है, जनता की आस्था कांग्रेस की तरफ तेजी से बढ़ रही है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button