पाकिस्तान-चीन से उत्पन्न होने वाले सैन्य खतरों के लिए तैयार रहने की जरूरत

नई दिल्ली: सैन्य बलों के प्रमुख सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि भारत एक जटिल सुरक्षा और चुनौतीपूर्ण वातावरण का सामना कर रहा है। भारतीय सेना दुनिया की किसी भी अन्य सेना की तुलना में अधिक चुनौतियों का सामना करती है। इस वजह से दूसरे देशों में अपनाई गई युद्ध की रणनीतियों का अध्ययन करके भारत की सैन्य शक्ति को बदलने की जरूरत है। जनरल रावत ने यह भी कहा कि पाकिस्तान और चीन से उत्पन्न होने वाले सैन्य खतरों के लिए तैयार रहने की आवश्यकता है।
​​
​कॉलेज ऑफ डिफेंस मैनेजमेंट (सीडीएम), सिकंदराबाद ​की ओर से आयोजित ​’​ट्रांसफॉर्मेशन: इंपीरियल फॉर इंडियन आर्म्ड फोर्सेज​’​ पर एक राष्ट्रीय वेबिनार के दौरान अपने मुख्य भाषण में जनरल रावत ने कहा कि भारत जटिल सुरक्षा और चुनौतीपूर्ण वातावरण का सामना कर रहा है। ​​

20वीं शताब्दी में​ ​​सूचना समावेश और तकनीक के विकास के चलते ​​युद्ध के तरीकों में आमूल​-​चूल परिवर्तन देखा जा सकता है​​​, इसलिए भारत को उसके अनुसार अपनी ​​रक्षा रणनीतियों को अपनाने की जरूरत है।​

​उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति, उच्च रक्षा रणनीतिक मार्गदर्शन, उच्च रक्षा और संचालन संगठनों में संरचनात्मक सुधारों को परिभाषित करते हुए हमें कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे​​​​।

सीडीएस ने कहा कि​ राज्य की नीति के एक साधन के रूप में सैन्य शक्ति को विभिन्न स्तरों पर बदलने की आवश्यकता है, जिसमें जमीनी रणनीतिक यानी राजनीतिक-सैन्य, रणनीतिक संचालन और सामरिक स्तर शामिल हैं। परिवर्तन के मुख्य आयाम सिद्धांत, पद संरचना, प्रौद्योगिकी, जीविका और तत्परता हैं​​​​।​ उन्होंने ​​कहा कि ​​राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति, उच्च रक्षा रणनीतिक मार्गदर्शन, उच्च रक्षा और संचालन संगठनों में संरचनात्मक सुधारों को परिभाषित करना कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कदम हैं, जिसे हमें उठाने की आवश्यकता है​​।​​

जनरल रावत ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद से भारतीय सेना एक छोटे बल से एक बड़ी युद्ध क्षमता के साथ एक बड़ी और आधुनिक युद्ध मशीन में विकसित हुई है।

परमाणु युद्ध के तहत पारंपरिक युद्धों या सीमित संघर्षों के लिए संगठनात्मक संरचना पहले से मौजूद है लेकिन उन्हें अन्य प्रकार के संचालन के लिए आवश्यक लचीलेपन के लिए डिजिटाइज्ड युद्धपोत में संयुक्त लड़ाई आयोजित करने के लिए फिर से मॉडलिंग, फिर से सुसज्जित और फिर से उन्मुख होने की आवश्यकता है।

सीडीएस ने कहा कि​ ​हमें चीन और पाकिस्तान से उत्पन्न होने वाले सैन्य प्राथमिक खतरों के लिए तैयार रहना चाहिए। भविष्य में चीन भारत और ​हिन्द महासागर क्षेत्र के आसपास के राज्यों में प्रभुत्व स्थापित करने की मांग करता रहेगा।​ ​

जनरल रावत ने सुझाव दिया कि भारत को समुद्री हितों की सुरक्षा सुनिश्चित करने, परिसंपत्तियों की सुरक्षा करने, अन्य बलों के साथ मिलकर भारतीय युद्ध के प्रयासों का समर्थन करने सहित समुद्री आवश्यकताओं पर काम करने की आवश्यकता है।​

​हमें अपने द्वीप क्षेत्रों द्वारा प्रदान किए गए अवसर का भी प्रभावी ढंग से लाभ उठाना चाहिए, जो हमें अपनी पहुंच बढ़ाने में सक्षम बनाता है और हमारी रक्षा रणनीति को आगे बढ़ाता है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button