इस मामले में देश में सबसे ‘स्मार्ट’ निकला झारखंड

रांची : कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में जरूरी स्वास्थ्य व्यवस्था चाक-चौबंद करने और ऑक्सीजन, पल्स ऑक्सीमीटर से लेकर दवाओं तक की कालाबाजारी से राज्य की जनता को बचाने में झारखंड अपनी ‘स्मार्टनेस’ नहीं दिखा सका. लेकिन, यही झारखंड ‘स्मार्ट सिटी’ मिशन की योजनाओं के क्रियान्वयन में देशभर में पहले पायदान पर खड़ा हो गया है।

झारखंड को यह रुतबा केंद्रीय आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय ने बख्शा है।

दरअसल, देश के 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के विभिन्न 100 शहरों में चल रही स्मार्ट सिटी मिशन की योजनाओं के क्रियान्वयन की प्रगति के आधार पर केंद्रीय आवासान एवं शहरी कार्य मंत्रालय की ओर से हाल ही में रैंकिंग जारी की गयी है।

इस रैंकिंग में झारखंड पहले पायदान है।रांची 12वें स्थान पर100 शहरों में चल रही मिशन की योजनाओं की प्रगति के मामले में झारखंड की राजधानी रांची लगातार बढ़त के साथ 12वें स्थान पर है।

दूसरी तरफ राज्य तथा केंद्र शासित प्रदेश की सूची में दिल्ली 11वें स्थान पर और बिहार 27वें स्थान पर है और शहरों की सूची में न्यू दिल्ली म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन 41वें व बिहार की राजधानी पटना 68वें स्थान पर है।

रियल टाइम रैंकिंग जारी होने की प्रक्रिया और आधार
पहले स्मार्ट सिटी मिशन की ओर से एक महीने, पखवाड़ा, सप्ताह में रैंकिंग जारी करने की व्यवस्था थी।

लेकिन, अब यह रैंकिंग हर समय ऑनलाइन प्रक्रिया से अपडेट की जाती है।

इस रैंकिंग में स्मार्ट सिटी मिशन द्वारा संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन और प्रगति को आधार बनाया जाता है।

विभिन्न कार्यों के लिए अंक निर्धारित होता है। जिन कार्यों पर अंक प्राप्त होते हैं, उनमें संबंधित स्मार्ट सिटी द्वारा चयनित परियोजना की टेंडर प्रक्रिया का निष्पादन, परियोजना के लिए कार्यादेश जारी होना, परियोजनाओं का पूर्ण होना समेत अन्य शामिल हैं।

रांची के धुर्वा में 656 एकड़ जमीन पर बन रही ‘स्मार्ट सिटी’
बता दें कि राजधानी रांची में स्मार्ट सिटी मिशन के तहत धुर्वा क्षेत्र में 656 एकड़ जमीन में नये शहर का निर्माण हो रहा है।

इस शहर के लिए विश्वस्तरीय आधारभूत संरचना का विकास हो रहा है। सड़क, पेयजल संरचना, बिजली संरचना, ड्रेनेज, सिवरेज, साइकिल लेन, पैदल पाथ इत्यादि का विकास अंतिम दौर में है।

आवासीय, व्यावसायिक, शैक्षणिक, मिक्स यूज, स्वास्थ्य, हॉस्पिटेलिटी के क्षेत्र में विकास के लिए चिह्नित प्लॉट्स के ई-ऑक्शन की प्रक्रिया भी शुरू हो गयी है और प्रथम चरण में कई प्लॉट्स का ऑक्शन भी हो गया है।

रांची स्मार्ट सिटी के विकास को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने पूर्व में अपनी समीक्षा बैठकों के दौरान स्मार्ट सिटी में चल रही विकास योजनाओं की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया था।

उन्होंने राज्यवासियों को आश्वस्त किया कि यह शहर जनअकांक्षाओं के अनुरूप विकसित होगा। इसी क्रम में नये शहर के लिए आधारभूत संरचना का विकास जारी है।

वहीं, पिछले दिनों अपने तीन दिवसीय झारखंड दौरा के दौरान केंद्र सरकार के आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने भी रांची स्मार्ट सिटी की योजनाओं की समीक्षा और भौतिक निरीक्षण के बाद खुशी जाहिर करते हुए कहा था कि यह शहर झारखंड व आस-पास के राज्यों के लिए मॉडल सिटी के रूप में काम करेगा।

केंद्र सरकार द्वारा जारी रियल टाइम रैंकिंग में रांची और झारखंड को मिली बढ़त को लेकर विभागीय सचिव विनय कुमार चौबे ने खुशी जाहिर करते हुए रांची स्मार्ट सिटी कॉरपोरेशन को बधाई दी है।

वहीं, स्मार्ट सिटी कॉरपोरेशन के सीईओ अमित कुमार ने आश्वस्त किया है कि स्मार्ट सिटी के विकास के दौरान जनभागीदारी का पूरा ख्याल रखा गया है और आगे भी रखा जायेगा।-

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button