झारखंड

रांची पुलिस को किया शर्मसार, SSP ने हटाए तीन थानेदार, आप भी जानें क्या हैं गंभीर आरोप

रांची: राजधानी रांची की पुलिस से निराश करने वाली एक खबर आई है। जहां तीन थानेदारों को लाइन हाजिर कर दिया गया है।

इनमें से दो पर गंभीर आरोप हैं, जबकि एक को बीमारी की वजह से हटाया गया है। लोअर बाजार थानेदार सतीश कुमार, खेलगांव थानेदार रमेश गिरि और खलारी थानेदार अहमद अली हटाए गए हैं।

तीनों को पुलिस लाइन में योगदान देने का निर्देश दिया गया है।

इससे संबंधित आदेश एसएसपी सुरेंद्र झा की ओर से जारी किया गया है। हालांकि इन तीनों थानों में फिलहाल नए थानेदारों की पोस्टिंग नहीं की गई है।

दो थानेदारों पर गंभीर आरोप

लोअर बाजार थानेदार सतीश कुमार को मटका जुआ के अड्डों पर रोक नहीं लगा पाने और क्राइम कंट्रोल में फेल रहने की वजह से हटाया गया, जबकि एयरपोर्ट थानेदार रमेश गिरि को गब्बर साहू हत्याकांड के मुख्य आरोपित बीनू गोप पर नजर नहीं रखने और लापरवाही के आरोप में हटाया गया।

वहीं, खलारी थानेदार को बीमार रहने ओर तीन साल से ज्यादा समय से पोस्टिंग रहने की वजह से हटाया गया।

लोअर बाजार थानेदार पर क्या हैं आरोप

लोअर बाजार थानेदार पर मटका व जुआ का अड्डा चलाने में आवश्यक कार्रवाई नहीं करने और संदिग्ध भूमिका रहने की वजह से हटाया गया है। बीते 21 मई को मेन रोड स्थित जुआ के अड्डे में छापेमारी की गई थी।

इस छापेमारी में लोअर बाजार थानेदार को शामिल नहीं किया गया था। इस अड्डे की सूचना पुलिस मुख्यालय की ओर से रांची के एसएसपी को दी गई थी।

इसके बाद एसएसपी ने थाने से अलग टीम का गठन कर छापेमारी करवायी थी। जहां से 25 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। जबकि दस हजार नकद, मटका से संबंधित पेपर, ताश व अन्य सामान बरामद किए गए थे।

इससे पहले भी उसी अड्डे पर छापेमारी की गई थी। इस छापेमारी के बाद थानेदार को शोकॉज किया गया था।

इसके बावजूद वहां मटका का अड्डा लगातार चलता रहा। इसकी जांच के बाद एसएसपी ने कार्रवाई की है।

एयरपोर्ट थानेदार का यह है मामला

इधर, एयरपोर्ट थानेदार रमेश गिरि को धर्मदेव उर्फ गब्बर साहू हत्याकांड में लापरवाही के आरोप में हटाया गया है। इस हत्याकांड के बाद एसएसपी ने हटिया एएसपी से पूरी जांच रिपोर्ट मांगी थी।

जांच में तथ्य आए कि धर्मदेव साहू और उसकी हत्या करने का आरोपित भाजपा नेता बीनू गोप के बीच एक 2.17 एकड़ जमीन पर कब्जा को लेकर विवाद चल रहा था।

विवाद की वजह से दोनों ने पूर्व में एक दूसरे पर कई एफआइआर भी दर्ज करवाए। इस बीच बीनू गोप जेल चला गया। जेल से छूटने के बाद बदले में हत्या करवाने की पूरी संभावना थी।

इसके बावजूद एयरपोर्ट थानेदार द्वारा बीनू गोप पर नजर नहीं रखी गयी। जबकि पूर्व में सभी थानेदाराें को जेल से छूटे अपराधियों पर नजर रखने का निर्देश दिया गया था।

इस तरह की लापरवाही और क्राइम कंट्रोल में फेल रहने की वजह से एयरपोर्ट थानेदार रमेश गिरि को हटा दिया गया।

रांची के एसपी सुरेंद्र कुमार झा ने सात इंस्पेक्टरों और एक सब इंस्पेक्टर को इधर से उधर किया है। इससे संबंधित आदेश एसएसपी ने जारी कर दिया है।

जानें कौन कहां गए

पुलिस लाइन में पदस्थापित इंस्पेक्टर संजय कुमार को लोअर बाजार थाना प्रभारी बनाया गया है।

खलारी थाना प्रभारी अहमद अली को पुलिस लाइन में पदस्थापित किया गया है।

यातायात प्रभारी लालपुर फरीद आलम को खलारी थाना प्रभारी बनाया गया है।

पुलिस लाइन में पदस्थापित इंस्पेक्टर जॉन मुर्मू को यातायात थाना प्रभारी लालपुर बनाया गया है।

यातायात थाना प्रभारी गोंदा में पदस्थापित नवल किशोर प्रसाद को पुलिस लाइन में पदस्थापित किया गया है।

सदर पश्चिमी अंचल सर्किल इंस्पेक्टर के पद पर पदस्थापित असित कुमार मोदी को गोंदा यातायात प्रभारी बनाया गया है।

पुलिस लाइन में पदस्थापित इंस्पेक्टर मोहन पांडे को सर्किल इंस्पेक्टर सदर पश्चिमी अंचल बनाया गया है।

डोरंडा थाना में पदस्थापित सब इंस्पेक्टर आनंद प्रकाश सिंह को एयरपोर्ट थाना प्रभारी बनाया गया है।

Back to top button