आदिवासियों को भाषा, संस्कृति के लिए लड़ना पड़ेगा: बंधु तिर्की

रांची: प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और मांडर विधायक बंधु तिर्की ने कहा कि आदिवासियों को अपनी भाषा, संस्कृति के लिए लड़ना पड़ेगा।

मुख्यमंत्री और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने से कुछ नहीं होने वाला। ज्ञापन देकर हम सिर्फ खानापूर्ति करते हैं। बंधु तिर्की रविवार को रांची में आयोजित आदिवासी बुद्धिजीवी महासमागम में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि हम अपने इतिहास की चीजों को लिपिबद्ध करके नई पीढ़ी को सौंपने का काम करें।

कई चुनाव होंगे, कई पार्टियां बदलेंगी, लेकिन हम सड़क पर ही लड़ते रह जायेंगे। परिणाम नहीं आयेगा। इसलिए हम आदिवासियों को अपने विकास के लिए मंथन करना जरूरी है।

इस मौके पर अमूल्य नीरज खलखो, मीनाक्षी मुंडा, हरिनारायण महतो आदि उपस्थित थे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button