दुमका शिकारीपाड़ा में दो लड़कियों की बरामद हुई लाश, पुलिस जांच में जुटी

दुमका: नक्सल प्रभावित शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र में दो अलग-अलग स्थानों पर गुरूवार को दो युवती का शव मिलने से सनसनी फैल गई।

पहला शव थाना क्षेत्र के हांसापाथर गांव के टंडी टोला में मिली, जहां एक बासमती हेम्ब्रम (25) की पत्थर से कुचल कर हत्या कर दी गई है।

वहीं थाना क्षेत्र के भोक्तानडीह गांव में सड़क किनारे अधजला युवती का शव मिला। मृतका बासमती के पिता बाजून किस्कू ने बताया कि वह अपनी पत्नी सुनीता मुर्मू के साथ अपनी ससुराल थाना क्षेत्र शिवलीबोना गया हुआ था। घर पर बासमती हेम्ब्रम और उसकी दादी थी।

उसकी दादी ने बताया कि रात के लगभग 12 बजे किसी का कॉल आया और युवती बाहर निकल गई। हालांकि दादी ने मना भी की।

लेकिन युवती दादा को समझा-बुझाकर सुला दी और बाहर निकल गई। दादी की माने तो बाईक की आवाज भी सुनी और आगंतुक का अंधेरे के कारण सिर्फ पैर ही देख सकी।

सुबह जब बासमती की दादी उठ कर बाहर आई तो घर के बाहर ही युवती की बेरहमी से कुचला हुआ शव मिला। शव को देखकर प्रतीत होता है कि युवती को अगल-बगल में ही कहीं मार कर शव को घर के सामने डाल दिया गया है।

सूचना मिलने पर शिकारीपाड़ा थाना पुलिस एसके प्रसाद के नेतृत्व में टीम पहुंच शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज जांच में जुट गई। पुलिस मौके वारदात से खून से सना हुआ पत्थर, एक हंसिया, काला माला और रबर बैंड बरामद की है।

युवती का अधजला शव बरामद

इधर दोपहर में थाना क्षेत्र के शिकारीपाड़ा-काठीकुंड सीमा क्षेत्र के भुगतानडीह गांव के सड़क किनारे गार्डवाल के समीप करीब 22 वर्षीय एक युवती की अधजली पुलिस शव बरामद किया है।

मामले की जानकारी देते हुए एसडीपीओ, सदर मो नूर मुस्तफा एवं थाना प्रभारी नवल किशोर सिंह ने बताया कि शव को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि इसकी हत्या कहीं और कर साक्ष्य मिटाने के लिए शव को उक्त घटना स्थल पर लाकर जला दिया गया है। शव को देखकर युवती का उम्र लगभग 22 वर्ष प्रतीत हो रहा है।

एसडीपीओ नूर मुस्तफा अंसारी के नेतृत्व में शिकारीपाड़ा और काठीकुंड इंस्पेक्टर अतिन कुमार, थाना प्रभारी श्यामल मंडल समेत दो थाना की पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जांच में जुट गई है।

हलांकि शव का शिनाख्त नहीं हो पाया है। मामले में पुलिस छानबीन में जुट गई है। पुलिस दोनों युवती का शव बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए फुलो-झानों मेडिकल कॉलेज अस्पताल, दुमका भेज दी है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button