झारखंड

क्यों डर गया रंगदारी के लिए डराने वाला गैंगस्टर अमन सिंह!, कैदी वाहन से लगा जोर-जोर से चीखने-चिल्लाने

अमन सिंह के जेल ट्रांसफर के लिए एसएसपी संजीव कुमार ने प्रशासनिक अधिकारियाें काे पत्र लिखा था

धनबाद: गैंगस्टर अमन सिंह को शनिवार धनबाद मंडल कारा से दुमका सेंट्रल जेल शिफ्ट कर दिया गया।

अमन को धनबाद से किसी दूसरी जेल में शिफ्ट करने को लेकर एसएसपी ने संबंधित अधिकारियों को पत्र लिखने के साथ कोर्ट में भी आवेदन दिया गया। कोर्ट के आदेश पर शाम को कैदी वाहन से दुमका भेजा गया।

कैदी वाहन से लगा जोर-जोर से चीखने-चिल्लाने

दुमका भेजने से पूर्व दूसरों को रंगदारी के लिए डराने वाला अमन खुद काफी डरा दिखा। धनबाद जेल से निकलते ही कैदी वाहन से ही वह जोर-जोर से चिल्ला रहा था-उसे मारने के लिए ही दूसरी जेल भेजा रहा है।

उसकी हत्या कराने की साजिश है। मेरी जान चली जाएगी। हालांकि इसे अमन को पैंतरा कहा जा रहा है। इससे पूर्व भी जेल ट्रांसफर के दौरान इस पैंतरे को आजमा चुका है।

चाईबासा जेल ट्रांसफर होने के समय उसकी पत्नी ने हत्या की आशंका जताई थी। वहीं चाईबासा जेल में बंद रहने के दौरान ही उसने सरायढेला के पूर्व थानेदार निरंजन तिवारी व हर्ष सिंह से जान को खतरा बताया था। दावा किया था कि निरंजन तिवारी ने जेल आकर उसे धमकाया था।

फोन पर हर्ष से भी बात कराई थी। हर्ष ने भी धमकी दी थी। दाे दिन पूर्व भी बच्चा सिंह और हर्ष पर हत्या कराने का संदेह जाहिर किया था।

कोर्ट में SSP ने दिया था आवेदन

अमन सिंह के जेल ट्रांसफर के लिए एसएसपी संजीव कुमार ने प्रशासनिक अधिकारियाें काे पत्र लिखा था।

इस बीच अमन डाॅ समीर सहित अन्य लाेगाें काे रंगदारी के फाेन कर लगातार धमका रहा था। पुलिस काे इस बात की पुख्ता जानकारी थी कि सभी फाेन व मैसेज जेल से किए जा रहे हैं।

इसके बाद एसएसपी ने खुद काेर्ट काे अावेदन देकर दूसरी जेल में शिफ्ट करने की प्रार्थना की । शनिवार काे एमपी-एमएलए के विशेष न्यायाधीश अखिलेश कुमार ने धनबाद से दुमका जेल शिफ्ट करने का आदेश दे दिया।