अब तो CM हाउस से ही लग रही जंगल-जमीन, आदिवासी-मूलवासी की बोली: रघुवर दास

गुमला: महाठगबंधन सरकार से राज्य की जनता खुद को ठगा हुआ महसूस कर रही है। कई कल्याणकारी योजनाओं को बंद कर दिया गया है।

अब झारखंड जंगल राज की ओर अग्रसर है। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास ने बुधवार को रौनियार भवन के सभागार में आयोजित भाजपा जिला कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करते हुए कही।

दास ने कहा कि अवैध रूप से बालू, पत्थर, खनिज, गौ तस्करी व धर्मांतरण पूरे प्रदेश में मुख्यमंत्री आवास से संचालित हो रहा है।

मोदी जी के नेतृत्व में भाजपा का सारे सपने पूरे हो रहें है। राम मंदिर भी बन रहा है। धारा 370 खत्म हो गया।

मोदी जी ने वसुधैव कुटुम्बकम का नारा देकर कोरोना काल में गरीब कल्याण योजना के तहत 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज उपलब्ध कराया।

जनधन खाता से हरे, खाता धारियों को पंद्रह सौ आर्थिक सहायता मिली। वैक्सीन निर्माण कर आत्मनिर्भर भारत की मजबूत नींव रखी।

उन्होंने कहा कि भाजपा नेशन फर्स्ट को आगे बढ़ाने के लिए काम करती है। जबकि बाकी की पार्टियां पहले अपनी चिंता करती है।

कांग्रेस या क्षेत्रीय दल परिवारवाद को मानती है। जबकि भाजपा पूरे पार्टी को परिवार मानती है।

पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉक्टर अरुण उरांव ने कहा कि राज्य में अपराध-नक्सलवाद दुबारा पनप रहा है। इसका कारण भ्रष्टाचार है।

रिश्वत के बदौलत अधिकारियों का पदस्थापन हो रहा है, जिसे कानून व्यवस्था प्रभावित हो रही है।

पूर्व की सरकार में सरकार का डर रहता था। नौकरशाहों की मॉनिटरिंग होती थी। अब तो सीएम हाउस से ही जंगल -जमीन, आदिवासी- मूलवासी की बोली लगाई जा रही है ।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button