झारखंड

हल्की-हल्की बारिश और ठंडी हवा से लोगों को राहत, कृषि विज्ञान केंद्र ने किसानों को दिया विशेष निर्देश

बीते दिनों कड़े धूप के कारण भीषण गर्मी (Extreme Heat) से लोग काफी परेशान थे। जिसके बाद रविवार को हल्की-हल्की बारिश और ठंडी-ठंडी हवाएं चलने से लोगों को गर्मी से राहत मिली।बीते दिनों कड़े धूप के कारण भीषण गर्मी (Extreme Heat) से लोग काफी परेशान थे। जिसके बाद रविवार को हल्की-हल्की बारिश और ठंडी-ठंडी हवाएं चलने से लोगों को गर्मी से राहत मिली।

Jharkhand Weather: बीते दिनों कड़े धूप के कारण भीषण गर्मी (Extreme Heat) से लोग काफी परेशान थे। जिसके बाद रविवार को हल्की-हल्की बारिश और ठंडी-ठंडी हवाएं चलने से लोगों को गर्मी से राहत मिली।

इससे पहले दिन में अधिकतम तापमान 39 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस रहा।

मौसम विभाग (Weather Department) के अनुसार इस वर्ष अप्रैल से जून तक गर्मी औसत से अधिक पड़ने का अनुमान है। इस बीच Heat Wave यानी लू भी लंबा होगा जो 10 से 20 दिन का हो सकता है।

किसानों के लिए विशेष निर्देश

कृषि विज्ञान केंद्र (Agricultural Science Center) के वरीय वैज्ञानिक डॉ अशोक कुमार (Dr Ashok Kumar) ने बताया कि अधिक गर्मी के कारण दक्षिणी- पश्चिमी मानसून अधिक सक्रिय होता है। मैदानी क्षेत्रों में अधिक वर्षा होती है। इसलिए खरीफ में सामान्य या सामान्य से अधिक वर्षा होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

पिछले दो वर्ष अलनीनो के कारण खरीफ में वर्षा औसत से काफी कम रहा और फसलों (Crops) को प्रभावित किया। परंतु अलनीनो का समय मई के अंत से जून के शुरू में समाप्त हो रहा है। अलनीनो का समाप्त होना भी खरीफ में अच्छी वर्षा होने की तरफ एक इशारा है।

खरीफ (Kharif) में किसानों को समय कृषि कार्यों को करने के लिए तैयारी कर लेनी चाहिए। अगर बीच में कभी हल्की-फुल्की वर्षा होती है तो खेत की गहरी जुताई करके खेत को खोल दें जिससे की रोग एवं खरपतवार के बीज मर जाएंगे और आगामी फसल अच्छा होगा।

x