पॉजिटिव होने के 14 दिन बाद भी रिपोर्ट आ रही पॉजिटिव

नई दिल्ली: दिल्ली के कुछ लोगों के संक्रमित होने के 14 दिन बाद भी रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है।

ऐसे में यह लोग बिना डॉक्टरी सलाह के लगातार कोरोना की दवाओं का सेवन कर रहे हैं,जिससे वह कई अन्य समस्याओं के शिकार हो रहे हैं।

डॉक्टरों का कहना है कि दोबारा रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर घबराना नहीं चाहिए।

यह शरीर के डेड वायरस के कारण भी हो सकता है। ऐसे में जरूरी है कि सही समय पर चिकित्सीय सलाह ली जाए।

एम्स के कोरोना आईसीयू वार्ड का जिम्मा संभाल रहे डॉक्टर युद्धवीर सिंह बताते हैं कि कोविड संक्रमितों के इलाज के दौरान ऐसे कुछ मामले सामने आ रहे हैं , जहां 14 दिन बाद भी मरीजों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

इनमें उन मरीजों की संख्या अधिक है जो कैंसर या अन्य गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं।

इसके अलावा होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे लोगों कि रिपोर्ट भी दोबारा पॉजिटिव आ रही है।

ऐसा वायरल लोड या फिर डेड वायरस के कारण हो सकता है, लेकिन इसके प्रमुख कारणों पर स्पष्ट तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि दोबारा कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आए तो घबराना नहीं चाहिए।

इस स्थिति में चिकित्सकों के निर्देशों का पालन करना चाहिए। यदि किसी संक्रमित मरीज को तीन दिन से बुखार नहीं आया है या 10 दिन से कोरोना का कोई लक्षण नहीं दिख रहा है तो चिंता कि कोई बात नहीं है।

क्योकि, कोविड उपचार के प्रोटोकॉल के अनुसार इस प्रकार के मरीज में संक्रमण खत्म हो जाता है और और उसको स्वस्थ माना जाता है।

ऐसे व्यक्ति को नॉन इंफेक्सर कहा जाता है। यानी उससे किसी दूसरे को संक्रमण नहीं होगा।

ऐसा व्यक्ति खुद को होम आइसोलेशन से बाहर करके पहले कि तरह अपने काम कर सकता है।

इस श्रेणी के लोगों की कोरोना रिपोर्ट अगर दोबारा पॉजिटिव आ भी जाती है तो चिंता कि कोई बात नहीं है।

जरूरी है ऐसे लोग खुद को संक्रमित न समझे और बिना वजह कोविड कि दवाओं का सेवन न करें।

हालांकि, जो लोग गंभीर बीमार है हैं। उनको सावधानी बरतने की जरूरत है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button