मौत का कुआं : विदिशा हादसे में अभीतक कुएं से निकाले गए चार शव, कई अभी भी लापता

सीएम ने मृतकों के परिजनों को पांच लाख व घायलों को 50 हजार की मदद की घोषणा की

विदिशा: मध्य प्रदेश के विदिशा जिले के गंजबासौदा में गुरुवार रात बड़ा हादसा हो गया। यहां लाल पठार गांव में एक कुएं में बच्चे के गिरने के बाद उसे निकालने पहुंचे लोगों की भीड़ की वजह से कुआं धंस गया, जिसके चलते कई लोग अंदर जा गिरे।

एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और स्थानीय प्रशासन की टीम ने रात में ही रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया और शुक्रवार सुबह तक 20 लोगों को निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया। कुएं से अभीतक 4 लोगों के शव निकाले गए हैं। अभी भी कई लोग लापता हैं।

हादसा गुरुवार रात उस वक्त हुआ जब गांव के संदीप परिहार नामक बच्चे की कुएं में गिरने की सूचना पर बड़ी संख्या में ग्रामीण उसे निकालने के लिए कुएं की छत पर खड़े हो गए।

जिससे कुएं की छत भरभरा कर गिर गई और कई लोग कुएं में गिर गए। तकरीबन 30 फीट गहरे कुएं में 10-15 फीट तक पानी था।

घटना की जानकारी मिलते ही प्रशासन के तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे जेसीबी समेत अन्य मशीनों के जरिए राहत और बचाव कार्य शुरू किया। कमिश्नर कवींद्र कियावत के साथ ही पुलिस महानिरीक्षक साई मनोहर भी मौके पर पहुंच गए थे।

उधर, रात तकरीबन 11 बजे राहत कार्य में लगा एक ट्रैक्टर भी जमीन के धंसने से गिर गया।

देर रात तक कुएं का पानी निकालने की कवायद की गई। कुएं के पास से जेसीबी की मदद से नाली खोदी गई है।

रात डेढ़ बजे कुएं का दस फीट पानी बाहर निकालने के बाद एनडीआरएफ की टीम कुएं में उतरी। कुएं में अब भी करीब 10 फीट पानी बचा है। कुएं में गिरा ट्रैक्टर निकाल लिया गया।

आधिकारिक तौर पर कोई भी यह बताने को तैयार नहीं है कि कुएं के पास कितने लोग जमा थे और कितने लोग कुएं में गिर गए। अबतक चार शव मौके से निकाले गए हैं।

सूत्रों के अनुसार करीब एक दर्जन लोग मलबे में दबे हो सकते हैं। बताया जाता है कि कुएं को खाली करते समय कुएं की दीवार भी धंस जाने से बचाव कार्य काफी प्रभावित हुआ।

बचाव कार्य में लगे होमगार्ड के दो जवान, ट्रैक्टर और डीजल पंप भी कुएं में गिर गए। हालांकि दोनों होमगार्ड जवानों को निकाल लिया गया है।

सीएम ने दिए उच्चस्तरीय जांच के आदेश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विदिशा में अपनी गोद ली हुई बेटियों की शादी के मौके पर मौजूद थे इसलिए उन्होंने विवाह स्थल को ही कंट्रोल रूम बना दिया।

हादसे के तुरंत बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तमाम बड़े अधिकारियों से बात कर राहत और बचाव कार्य में तेजी लाने के लिए कहा।

शुक्रवार सुबह सीएम ने मृतकों के परिवार वालों को 5 लाख रुपए और घायलों को 50 हजार की सहायता का ऐलान किया है।

सीएम ने कहा कि घटना की सतत निगरानी की जा रही है। सीएम शिवराज ने मामले की जांच के आदेश देते हुए प्रभावितों को हरसंभव मदद की बात कही है।

वहीं, विदिशा जिले के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग भी मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद भोपाल से मौके पर पहुंचे और लगातार राहत और बचाव कार्य निगरानी करते रहे।

सरपंच ने बताई आंखो देखी

ग्राम पंचायत स्वरूपनगर के सरपंच अमरसिंह कुशवाह ने बताया कि गुरुवार शाम को पानी भरने के लिए गया एक बालक संदीप परिहार कुएं में गिर गया था।

उसे निकालने के लिए करीब 50 से अधिक लोग कुएं पर पहुंच गए। कुशवाह के मुताबिक इस कुएं पर लोहे की गाटर डालकर सीमेंट की छत डाल दी गयी थी।

कुएं में सिर्फ बीच का हिस्सा खुला रहता था। बच्चे को निकालने पहुंचे लोग गाटर की इस छत पर चढ़ गए। भीड़ के दबाव के कारण दोनों तरफ की छत कुएं में गिर गई।

इसके चलते छत पर खड़े लोग भी कुएं के पानी में जा गिरे। सरपंच के मुताबिक यह कुआं करीब 30 फीट गहरा है। जिसमें करीब 20 फीट तक पानी भरा हुआ था।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button