टीनेजर लड़के ने ढूंढ निकाला 100 साल पुराना लव लेटर, खोल रहा है छुपे प्‍यार का राज, पढ़कर ‘रोमांटि‍क’ हो जाएंगे आप

खुलासा तब हुआ जब उसने सफाई करते समय गलती से कुछ टाइल्स तोड़ दीं

अजब गज़ब: प्‍यार भी ऐसी चीज होती है जिसका अहसास कई साल बाद भी महकता रहता है। अगर किसी के प्‍यार की कोई निशानी या कोई दस्‍तावेज सौ साल बाद भी मिल जाए तो उस प्‍यार की यादें ताजा हो जाती हैं।

ऐसा ही एक मामला ब्रिटेन से आया है.. जहां 14 साल के टीनेजर लड़के ने एक ऐसा लव लेटर खोज निकाला जो करीब 100 साल पुराना था। उस प्रेम पत्र में गुप्त संबंध की जानकारी थी जो 100 वर्षों से छिपा हुआ था।

इसका खुलासा तब हुआ जब उसने सफाई करते समय गलती से कुछ टाइल्स तोड़ दीं। एक रिपोर्ट के मुताबिक 14 साल के लुकास कॉर्न्स को ये चिट्ठी तब मिली, जब उसके कमरे में टीवी गिरने से टाइल्स टूट गई। फर्श से टुकड़े समेटने के दौरान ही उन्होंने इसके नीचे देखा, तो उसके हाथ लव लेटर लगा।

देखने में ही ये चिट्ठी लगभग 100 साल पुरानी लग रही है। भले ही इस चिठ्ठी को लिखने वाला शख्स अभी जिंदा न हो मगर उसके इश्क की कहानी अभी भी जिंदा है।

लेटर में क्या लिखा था ?

द मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, रोनाल्ड का सर नेम हबगूड/हल्गूड था। उसने अपनी प्रेमिका को बताया था कि हर रोज वह कैसे उसे याद करता है। आधी रात को उसे अपनी प्रेमिका की बहुत याद आती है।

वह उससे मिलने के लिए तरसता है। लेटर खोजने को लेकर डॉन ने कहा, मेरे बेटे ने मुझसे कहा कि हमें घर में कुछ ऐसा मिला है जो छुपाया गया था। ये सुनकर मैं बहुत डर गई। फिर मुझे वह लेटर दिखा, जिसे 100 साल पहले छुपाया गया था।

इसके बाद लेटर मिलने की घटना को उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट किया। लेटर में रोनाल्ड ने लिखा था, माई डार्लिंग। हर सुबह तुम्हें देखने का मन करता है। लेकिन हमारे प्यार के बारे में किसी को मत बताना।

क्योंकि ये सिर्फ तुम्हारे और हमारे बारे में है। अगर किसी और को हमारे प्यार के बारे में पता चला तो परेशानी होगी। इसलिए इस बात को याद रखना। मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं।

जिस प्यार को छुपाया, उसे जान गई दुनिया

लेटर मिलने के बाद मां डॉन और बेटा बहुत खुश हुए। उन्होंने कहा कि 100 साल पहले लिखे गए इस लेटर को छुपा कर रखा गया था।

प्रेमी ने अपनी प्रेमिका से गुजारिश की थी, वह लोगों को अपने प्यार के बारे में न बताए। लेकिन आज पूरी दुनिया उनके प्यार के बारे में जान गई। लेटर पर तारीख नहीं लिखा है, लेकिन मां डॉन ने बताया कि उनका घर 1917 में बनाया गया था।

लेकिन इस दौरान वे यहां नहीं रहते थे। वे इस साल मई महीने में ही यहां आए हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता कि यहां पर कौन-कौन लोग रहते थे।

लेकिन जब फेसबुक पर लोगों ने कागज के आकार और लिखावट देखी तो कहा कि ये 1920 के आसपास का हो सकता है।

लेटर को देखकर एक अन्य व्यक्ति ने घर की तारीफ की। वहीं मां डॉन ने कहा कि उनके लिए ये लेटर बहुत ही कीमती है। वह इसे फ्रेम करवाकर दीवार पर टांग देंगी।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button