पीएम मोदी के कैबिनेट फेरबदल से नाखुश हैं नीतीश कुमार?

पटना: ऐसा प्रतीत हो रहा है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किए गए कैबिनेट फेरबदल से खुश नहीं हैं।

कैबिनेट विस्तार में गठबंधन सहयोगी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को सिर्फ एक मंत्रालय दिया गया है।

केवल राम चंद्र प्रसाद सिंह (आर. सी. पी. सिंह) को शामिल कर उन्हें इस्पात मंत्रालय में जगह दी गई है, लेकिन नीतीश कुमार ने उन्हें सोशल मीडिया पर सार्वजनिक रूप से बधाई नहीं दी है।

भारतीय राजनीति में इन दिनों ऐसा चलन है कि नेता एक दूसरे को जन्मदिन की बधाई सहित हर बड़े अवसर पर ट्विटर, फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम आदि जैसे सोशल मीडिया पर बधाई संदेश देते हैं।

हालांकि नीतीश कुमार ने सिंह के केंद्रीय मंत्री बनने के एक दिन बाद भी अभी तक सोशल मीडिया पर उनके लिए कोई बधाई संदेश पोस्ट नहीं किया है।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि जदयू कम से कम 2 कैबिनेट मंत्री पद चाहता था – एक आर. सी. पी. सिंह के लिए और दूसरा नीतीश कुमार के करीबी सहयोगी ललन सिंह के लिए।

जैसा कि मोदी ने सिर्फ आर. सी. पी. सिंह को ही शामिल किया है, इसलिए वह नहीं चाहते थे कि ललन सिंह नाराज हों।

जदयू के एक वरिष्ठ नेता ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, वर्तमान में आर. सी. पी. सिंह जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर हैं, जबकि ललन सिंह मुंगेर से सांसद हैं। ये दोनों नीतीश कुमार के सबसे करीबी सहयोगी हैं।

माना जाता है कि वे पार्टी में नंबर 2 के स्थान पर काबिज हैं। एक चीज यह है कि उनके और नीतीश कुमार के बीच राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता नहीं चाहती कि उनमें से कोई नाराज हो।

ललन सिंह ही थे, जिन्होंने कथित तौर पर लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) को तोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

उन्होंने कहा, नीतीश कुमार ने आर. सी. पी. सिंह को व्यक्तिगत रूप से बधाई दी होगी, लेकिन सार्वजनिक रूप से इसे व्यक्त नहीं किया गया है।

आर. सी. पी. सिंह पहले ही ललन सिंह के बारे में बयान दे चुके हैं और कहा है, ललन सिंह और मुझमें कोई अंतर नहीं है। वह पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं।

एक अन्य वरिष्ठ नेता ने कहा, जदयू के अंदर यह चर्चा है कि आर. सी. पी. सिंह को कम से कम दो कैबिनेट मंत्रियों के पदों और राज्य मंत्री के दो पदों पर कब्जा करने के लिए भाजपा के साथ मोल-भाव करने की जिम्मेदारी दी गई थी। लेकिन सिंह विफल रहे और सिर्फ अपने लिए एक मंत्रालय मिला।

उन्होंने कहा कि अगर जदयू को एक ही पद की जरूरत थी तो फिर 2019 में उसने वह पद क्यों नहीं लिया? इसमें आखिर दो साल की देरी क्यों की?

इस बीच, जदयू और आर. सी. पी. सिंह के समर्थकों ने सिंह को बधाई देने के लिए सीएम आवास, जेडीयू कार्यालय और पटना में अन्य स्थानों पर नए पोस्टर और बैनर लगाए हैं।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button