बच्चों को अचानक सांस लेने में होने लगी तकलीफ, 100 बच्चे अस्पताल में भर्ती

बच्चों को सांस लेने में तकलीफ के साथ-साथ उनमें बुखार के लक्षण भी दिख रहे हैं

इंफाल: प्रदेश के चुराचांदपुर जिला में सांस की बीमारी से सैकड़ों बच्चों के पीड़ित होने का पता चला है। डॉक्टरों ने उन्हें अस्पतालों से भर्ती कर इलाज शुरू कर दिया है।

अस्पताल सूत्रों ने बताया कि बच्चों को सांस लेने में तकलीफ के साथ-साथ उनमें बुखार के लक्षण भी दिख रहे हैं।

चुराचांदपुर जिला सरकारी अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में 10 बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन आज अचानक कुल 100 बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

अब तक 60 बच्चों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है। सभी की उम्र दो माह से तीन साल के बीच है। अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि बीमार बच्चों में से एक दो माह का बच्चा तथा एक दो वर्ष का बच्चा कोरोना संक्रमित पाया गया है।

इसके अलावा इन्फ्लूएंजा ए वायरस सबटाइप एच3एन2 के एक मरीज की भी पहचान की गई है। सभी मरीजों की जांच की गयी है। इनमें से 35 बच्चों के सैंपल निगेटिव पाये गये हैं। शेष की रिपोर्ट अभी बाकी है।

एक विशेषज्ञ डॉक्टर के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार बुखार और सांस की बीमारी मौसम में बदलाव के कारण होने की संभावना है। मौसमी बदलाव के दौरान आमतौर पर बच्चे ज्यादा प्रभावित होते हैं।

अधिकारियों ने बताया कि वर्तमान में 33 बेड वाले जिला अस्पताल में 40 बाल रोगी हैं। इनमें से आधे को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है।

सरकारी अस्पताल के अधिकारियों ने यह भी कहा कि पर्याप्त बेड न होने के कारण उन्हें सात ऐसे बच्चों को अस्पताल के गलियारों में रखने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है, जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button