कांग्रेस ने कोरोना संकट को भी देश द्रोह फैलाने का अवसर बनाया: दीपक प्रकाश

रांची: भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद दीपक प्रकाश ने कहा कि डूबती हुई कांग्रेस आज पूरी तरह हताश और निराश हो चुकी है।

ऐसी परिस्थिति में कांग्रेस का देश विरोधी चरित्र सतह पर उजागर हो चुका है।

टूलकिट प्रकरण इसका ज्वलंत उदाहरण है।

दीपक प्रकाश ने गुरुवार को प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि इस वक्त जहां पूरा देश कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है।

वहीं कांग्रेस ने कोरोना संकट को भी देश द्रोह फैलाने का अवसर बनाया है।

सबसे चिंता की बात तो यह है कि इस आपदा में अपनी राजनीति चमकाने के चक्कर में उसे राष्ट्र की मर्यादा को भी ताक पर रखने से कोई परहेज नहीं।

उन्होंने कहा कि टूल किट मामला में कांग्रेस देश के सामने बेनकाब हो चुकी है।

कांग्रेस पार्टी के नेताओं को निर्देश दिया गया है कि महाकुंभ मेले को ‘सुपर स्प्रेडर कुम्भ’ के रूप में प्रचारित करना है।

वहीं ईद पर होने वाली गैदरिंग को सोशल गेदरिंग का नाम देकर नेताओं से चुप्पी साधे रखने को कहा गया है।

इसमें निर्देश दिया गया है कि पीएम मोदी और भाजपा को निशाना बनाने में राष्ट्रीय सुरक्षा से भी समझौता करना पड़े, तो हिचकना नहीं है।

उन्होंने कहा कि टूलकिट में पीएम मोदी और उनकी सरकार को बदनाम करने के लिए लोगों के शव और अंतिम संस्कार की तस्वीरों का बढ़-चढ़कर इस्तेमाल करने को कहा गया है।

पीएम मोदी के खिलाफ कांग्रेस की सोच का पता टूलकिट के एक और शर्मनाक प्वाइंट से पता चलता है।

यह टूलकिट पार्टी नेताओं और अपने सोशल मीडिया वॉलंटियर्स को न्यू म्यूटेंट को ‘इंडियन स्ट्रेन’ बताकर पेश करने को कहता है।

राहुल गांधी अपने ट्विटर हैंडल से इंडियन कोरोना वायरस का जिक्र करते है।

उनमें थोड़ी भी देशभक्ति होती तो वो चाइनीज कोरोना वायरस लिखते।

जबकि इस मामले में डब्लूएचओ भी साफ-साफ कह चुका है कि ‘इंडियन स्ट्रेन’ जैसी कोई चीज नहीं।

प्रकाश ने कहा कि उससे भी आगे बढ़कर यह टूलकिट सोशल मीडिया वॉलंटियर्स को न्यू म्यूटेंट को ‘मोदी स्ट्रेन’ के रूप में प्रचारित करने को कहती है।

इस काम मे मोदी विरोध में उतरा एक पूरा गैंग लंबे समय से इसके लिए सुनियोजित रूप से विदेशी मीडिया का इस्तेमाल भी करता रहा है।

टूलकिट पीएम मोदी की छवि को बदनाम करने के तरीके भी बताती है। कहा गया है कि इसके लिए विदेशी मीडिया में आई रिपोर्ट्स को हाईलाइट करना है।

जबकि यह बात भी हर कोई जानता है कि मोदी सरकार को बदनाम कैसे करे।

प्रकाश ने कहा कि इतना ही नहीं सामान्य मरीजों को अगर इमरजेंसी जैसी जरूरत में भी बेड मुहैया नहीं हो पाई तो इसमें भी कांग्रेस की टूलकिट के निर्देशों की एक बड़ी भूमिका है।

इसमें कांग्रेस नेताओं से बेड्स पर कब्जा जमाए रखने को कहा गया।

जिस तरह से कांग्रेस सरकार में टु जी,पनडुब्बी घोटाला, कोलगेट घोटाला, कॉमनवेल्थ घोटाला देश के सामने उजागर हुआ।

उसी प्रकार यह टूलकिट प्रकरण राजनीतिक घोटाला देश के सामने उजागर हुआ है।

जिस तरह से राहुल गांधी, शशि थरूर की भाषा है।

वैसे ही राज्य में सत्ताधारी दल के विधायक एवं मंत्री का भी है।

राज्य के सत्ताधारी दल के लोग पूरी तरह से टूल किट की भाषा बोल रहे है।

मंत्री बन्ना गुप्ता एवं झामुमो विधायक सुदीप्तो कुमार का बयान यह साफ बतलाता है कि यह टुल किट का अहम हिस्सा है।

प्रकाश ने कहा कि कांग्रेस के नेता एफआईआर करने का ढोंग करते है, लेकिन सच्चाई देश के सामने है।

जहां राज्य अपनी कमियों को छुपाने के लिए बार बार केंद्र सरकार का दोषारोपण कर रहा है। वहीं केंद्र सरकार झारखंड को लगातार सहयोग कर रही है।

प्रकाश ने कोरोना काल मे भाजपा द्वारा किए जा रहे सेवा कार्यो का उल्लेख करते हुए कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के निर्देशानुसार एवं प्रधानमंत्री के भावनाओ के अनुरूप पार्टी के कार्यकर्ता पूरे प्रदेश में सेवा ही संगठन मंत्र को धरातल पर उतर रहे है।

कोरोना दो में कॉल सेंटर में 21315 लोगो का कॉल आयी जिसका समाधान किया गया।

उन्होंने कहा कि 1230 मरीजो को अस्पताल में बेड उपलब्ध कराया गया। 715 लोगो को ऑक्सीजन सिलिंडर उपलब्ध कराया गया।

1235 लोगो को मेडिकल किट उपलब्ध कराया गया।

17105 लोगो को मुफ्त में डॉक्टर का सलाह दिया गया।

23785 लोगो के बीच मास्क एवं सेनिटाइजर वितरण किया गया।

5818 कोरोना संक्रमित घरों में भोजन पहुँचाया गया।

13005 कोरोना संक्रमित घरों में राशन किट उपलब्ध कराया गया।

“दो गज दूरी मास्क है जरूरी”, स्वास्थ संबंधित जानकारी के लिए 375 कार्यकर्ता लगे हुए है।

टीकाकरण अभियान में 640 कार्यकर्ता अपना योगदान दे रहे है।

250 कार्यकर्ता वरिष्ठ नागरिकों एवं बुजुर्गो को जरूरत की सामग्री उपलब्ध कराने में लगे हुए है।
प्रेसवार्ता में प्रदेश सह मीडिया प्रभारी अशोक बड़ाईक एवं राहुल अवस्थी उपस्थित थे।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button