खतरनाक डर्मेटोमायोसाइटिस बीमारी से मरने वालों की बढ़ रही तादाद, एक्ट्रेस सुहानी की…

News Aroma Desk

Dermatomyocits Concern : कौन सी बीमारी कब अधिक प्रभावकारी बनाकर हमारे जीवन को प्रभावित करने लगे, यह समझ पाना बड़ा मुश्किल है।

- Advertisement -

फिल्म ‘दंगल’ में बबीता फोगाट (Babita Phogat) के बचपन का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस सुहानी भट्टनागर (Suhani Bhatnagar) का निधन हो गया है। Actress लंबे समय से बीमारी चल रही थी और उनका दिल्ली के AIIMS में इलाज भी चल रहा था।

dermatomyocits-concern-actress-suhani-bhattnagar-died-the-number-of-people-dying-from-dangerous-dermatomyositis-disease-is-increasing

- Advertisement -

सुहानी भट्टनागर डर्मेटोमायोसाइटिस (Dermatomyocits) नाम की खतरनाक बीमारी से जुझ रही थी। रिपोर्ट्स की मानें तो हर साल इस बीमारी से पीड़ित लोगों की संख्या में इजाफा हो रहा है।

लेकिन यह बीमारी क्या है और इसके लक्षण क्या है आज आपको इस आर्टिकल के जरिए बताएंगे।

क्या होती है Dermatomyocits बीमारी?

dermatomyocits-concern-actress-suhani-bhattnagar-died-the-number-of-people-dying-from-dangerous-dermatomyositis-disease-is-increasing

यह एक बहुत ही अलग तरह की बीमारी होती है। इसमें व्यक्ति की त्वचा और मांसपेशियां (Muscles) प्रभावित होती हैं। इस बीमारी को ऑटो इम्यून बीमारियों की कैटेगरी में रखा गया है।

Auto Immune उन बीमारियों को कहते हैं जिसमें इम्यून सिस्टम अलग तरह से काम करता है।

इसके कारण शरीर की प्रतिरोधक क्षमता धीरे-धीरे कम होने लगती है और शरीर बीमारियों से लड़ने में भी असमर्थ हो जाता है। पुरुषों के मुकाबले यह बीमारी महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है।

जानें इस बीमारी के लक्षण

. इस बीमारी का सबसे पहला लक्षण स्किन पर दिखता है।

- Advertisement -

. स्किन धीरे-धीरे डार्क होने लगती है।

. त्वचा पर रैशेज, लाल चकत्ते होने लगते हैं।

. बैठने, वजन उठाने, सीढ़ियां उतरने चढ़ने में तकलीफ

. बॉडी के मसल्स धीरे-धीरे कमजोर होने लगते हैं।

बीमारी की वजह

इस बीमारी के कारण अभी तक पता नहीं लग पाया है परंतु Experts की मानें तो Autoimmune डिजीज है जिससे पीड़ित व्यक्ति का इम्यून सिस्टम खुद ही हेल्दी टिश्यू पर हमला करने लगता है।

इसके पीछे Genetics और कुछ खास तरह की दवाइयां, Virus infection, Smoking जैसे दूसरे कारण भी जिम्मेदार हो सकते हैं।

किस अंग को प्रभावित करती है ये बीमारी

कुछ गंभीर मामलों में यह बीमारी फेफड़ों और हृदय जैसे महत्वपूर्ण अंगों को प्रभावित करती है। ऐसे में जीवन के लिए खतरा बढ़ जाता है।

सही इलाज और देखभाल के जरिए बीमारी का प्रभाव कम किया जा सकता है। हां, यह जरूर है कि इस बीमारी के लक्षण दिखते हैं सावधान हो जाना चाहिए और डॉक्टर से सलाह ली जानी चाहिए।