राज्य की बेटियों को न्याय दिलाएं महामहिम, महिलाओं के हित में सरकार को दें कठोर कार्रवाई के निर्देश

रांची: भाजपा प्रदेश महिला मोर्चा ने बुधवार को राज्यपाल से मुलाकात कर एक ज्ञापन सौंपते हुए खूंटी में नर्सिंग इंस्टीटूट की छात्राओं के साथ हुए दुर्व्यवहार पर सरकार को कड़े निर्देश देने का अनुरोध किया।

 प्रतिनिधिमंडल में महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष आरती कुजूर, प्रदेश उपाध्यक्ष गंगोत्री कुजूर, प्रदेश मंत्री काजल प्रधान, रांची की महापौर आशा लकड़ा एवम मोर्चा की प्रदेश महामंत्री डॉ सीमा सिंह शामिल है।

आरती कुजूर ने कहा कि खूंटी स्थित होरा एनजीओ के द्वारा सुदूरवर्ती क्षेत्र के ग्रामीण गरीब आदिवासी  छात्राओं को नर्सिंग की ट्रेनिंग दी जा रही है।

विगत दिनों इन छात्राओं के साथ पल्स जांच एवं सहनशीलता परीक्षण के नाम पर अश्लील हरकत किया गया।

यह राज्य के लिये अत्यंत शर्म का विषय जहां बहन बेटियां पूरी तरह असुरक्षित हैं। प्रदेश महिला मोर्चा ने इसकी कड़ी भर्त्सना करती है।

मोर्चा के प्रतिनिधिमंडल ने घटनास्थल का दौरा भी किया है और इस संबंध में कुछ छात्राओं और जांच अधिकारियों से बात कर विस्तृत जानकारी प्राप्त की है।

कुजूर ने कहा कि राज्य में लगातार महिला उत्पीड़न की घटनाएं भिन्न भिन्न प्रकार से घटित हो रही है, जिससे बहन बेटियों और उनके परिजनों में सुरक्षा और इज्जत को लेकर चिंता है।

उन्होंने कहा कि होरा एनजीओ के द्वारा किए गए इस कुकृत्य में शामिल तमाम लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर अविलंब कार्रवाई किया जाए।

होरा एनजीओ के द्वारा दिए जा रहे हैं प्रशिक्षण संबंधी कार्य, उनकी वैधता उनके तमाम दस्तावेजों की अविलंब जांच कर कार्रवाई की जाए।

उस संस्थान में पढ़ाई कर रहे सभी छात्राओं के भविष्य को देखते हुए उनके प्रशिक्षण की व्यवस्था राज्य सरकार अपने देखरेख में पूरा हो। छात्राओं तथा उनके परिजनों के जानमाल की सुरक्षा की व्यवस्था की जाए।

पूरे प्रदेश में इस प्रकार के चल रहे एनजीओ एवं उनके द्वारा किए जा रहे थे जा रहे कार्यों की जांच की जाए।

झारखंड में इस प्रकार कितने एनजीओ या एजेंसी द्वारा इस प्रकार के नर्सिंग इंस्टिट्यूट चलाए जा रहे हैं उनकी योग्यता, मान्यता,और दक्षता की जांच हो। उन्होंने कहा कि राज्य हित, समाज हित, और महिलाओं के हित में सरकार को कठोर कार्रवाई के लिए निर्देशित करें।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button