कांग्रेस ने NEET में धांधली का लगाया आरोप, खड़गे बोले- BJP ने देश के युवाओं को ठगा है

News Aroma Desk

Kharge said BJP has Cheated the Youth of the country : कांग्रेस ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET (स्नातक) में धांधली का आरोप लगाते हुए कहा है कि इसकी उच्चतम न्यायालय (Supreme court) की निगरानी में जांच होनी चाहिए, ताकि प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को न्याय मिल सके।

NEET का परिणाम चार जून को घोषित किया गया था। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने आरोप लगाया कि BJP ने देश के युवाओं को ठगा है।

शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और जयराम रमेश ने सोशल मीडिया ‘X’ पर प्रतिक्रिया देने के साथ ही कहा कि उनकी मांग है कि उच्चतम न्यायालय की देखरेख में एक उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए, जिससे NEET और अन्य परीक्षाओं में भाग लेनेवाले हमारे प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को न्याय मिले।

मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “पेपर लीक, धांधली और भ्रष्टाचार NEET समेत कई परीक्षाओं का अभिन्न अंग बन गया है।

उन्होंने कहा कि अभ्यर्थियों के लिए भर्ती परीक्षाओं में भाग लेना, फिर अनेक अनियमितताओं से जूझना, पेपर लीक के चक्रव्यूह में फंसना- उनके भविष्य से खिलवाड़ है।”

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा, “पहले NEET परीक्षा का पेपर लीक हुआ और अब छात्रों का आरोप है कि इसके परिणाम में भी भ्रष्टाचार हुआ है।

एक ही सेंटर के छह छात्रों को 720 में से 720 अंक मिलने पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं और कई तरह की अनियमितताओं की बातें सामने आ रही हैं। बच्चों के आत्महत्या (Suicide) करने की खबरें झकझोरने वाली हैं।”

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा, “मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET में लाखों परीक्षार्थियों के साथ घोटाला पूरी तरह से अस्वीकार्य और अक्षम्य है। यह देश के लाखों अभ्यर्थियों के भविष्य के साथ सीधा खिलवाड़ है। इस साल पहले इसमें पेपर लीक होने का समाचार आया। अब मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET के कई परीक्षार्थियों ने छात्रों के अंक बढ़ाये जाने के आरोप लगाये हैं।

छात्रों का कहना है कि इस बार रिकॉर्ड 67 परीक्षार्थियों ने टॉप रैंक हासिल की और इनमें से छह अभ्यर्थी तो एक ही परीक्षा केंद्र से बताये जा रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) ने सफाई तो दी है, पर इसे प्रभावित छात्रों द्वारा बेहद सतही और गैर भरोसेमंद बताया जा रहा है। ऐसे में छात्रों की इस परीक्षा की शुचिता में विश्वास बहाली बेहद ज़रूरी है, जो निष्पक्ष और पारदर्शी जांच से ही संभव है।”

हमें Follow करें!

x