52 फीसदी लोगों का है मानना है लॉकडाउन में उन तक नहीं पहुंची सरकारी मदद

नई दिल्ली: एबीपी-सी वोटर मोदी 2.0 रिपोर्ट कार्ड की शनिवार को आई रिपोर्ट से पता चला कि लगभग 52 फीसदी लोगों ने ऐसा महसूस किया कि कोविड महामारी की दूसरी लहर की स्थिति को संभालने के लिए सरकार द्वारा घोषित तालाबंदी के दौरान सरकार की मदद उन तक नहीं पहुंच सकी।

सर्वे के मुताबिक, 52.3 फीसदी लोगों को लगा है कि लॉकडाउन के दौरान सरकार की मदद उन तक नहीं पहुंची। इसमें कहा गया है कि ग्रामीण इलाकों में 53.7 फीसदी और शहरी इलाकों में 48.9 फीसदी लोगों को लगा है कि सरकार की मदद उन तक नहीं पहुंची है।

सर्वेक्षण में यह भी कहा गया कि 38.2 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने महसूस किया है कि तालाबंदी के दौरान सरकार की मदद उन तक पहुंची है।

रिपोर्ट में दर्शाया गया है कि शहरी क्षेत्रों में 41.1 फीसदी, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में 37 फीसदी लोगों ने कहा है कि लॉकडाउन के दौरान सरकार की मदद उन तक पहुंची है।

जबकि 9.5 फीसदी लोगों ने इस मुद्दे पर चुप्पी साध रखी। यह सर्वे 23 मई से 27 मई के बीच देशभर में 12,070 लोगों पर किया गया।

कोविड की दूसरी लहर और लॉकडाउन के दौरान कई लोगों ने अस्पताल में बिस्तरों, ऑक्सीजन सिलेंडरों, दवाओं आदि की कमी को लेकर भी शिकायत की।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button