मुंबई में सफल रहा कॉकटेल एंटीबॉडी ड्रग का प्रयोग, दर्जनों कोरोना मरीज हुए स्वस्थ

मुंबई: मुंबई महानगरपालिका के स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों का कॉकटेल एंटीबॉडी ड्रग का प्रयोग सफल रहा।

इस दवा का नाम कॉकटेल इसीलिए रखा गया है क्योंकि इसमें कॅसिरीव्‍हीमॅब और इमडेव्‍हीमॅब नामक दवाईयों का मिश्रण किया गया है।

मनपा के डॉक्टरों ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए दो एंटीबॉडीज के मिश्रण से बनी दवा का उपयोग कर कोरोना संक्रमितों को बचाने में सफलता पाई है।

इस जादुई मिश्रण (कॉकटेल थेरेपी) से गंभीर मरीज भी उठकर खड़े हो जा रहे हैं। सेवन हिल्स अस्पताल में करीब 212 मरीजों पर इसका प्राथमिक प्रयोग किया गया है। इस थेरेपी से 199 मरीज ठीक हो गए।

दवाई लेने के बाद गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन की भी जरूरत नहीं हुई और 70 फीसदी से अधिक मरीज मौत के मुंह से लौट आए हैं।

इतना ही नहीं, पहले 14 से 15 दिन में ठीक होनेवाले मरीज अब 4 से 5 दिन में ठीक होकर घर जा रहे हैं।

खास बात यह है कि इससे लोगों को रेमडेसिवीर और स्टेरॉइड जैसी एंटीबॉडीज दवाइयों के उपयोग से साइड इफेक्ट नहीं होगा।

मधुमेह और दमा जैसी घातक बीमारी से पीड़ित लोगों को भी यह दवा दी जा सकती है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button