हेलीकॉप्टर दुर्घटना के बारे में रक्षा मंत्री ने संसद को दी जानकारी

रक्षा मंत्री ने पूरे सदन की ओर से मृतक व्यक्तियों को श्रद्धांजलि अर्पित की

नई दिल्ली: तमिलनाडु में कुन्नूर के पास बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हुए एमआई-17वी 5 हेलीकॉप्टर के बारे में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को लोकसभा में बयान दिया।

उन्होंने कहा कि गहरे दुख और भारी मन के साथ मैं भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत के सैन्य हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने की दुर्भाग्यपूर्ण खबर देने के लिए खड़ा हूं।

रक्षा मंत्री ने कहा कि वायु सेना के एमआई-17 वी 5 हेलीकॉप्टर ने 08 दिसम्बर को सुबह 11:48 बजे सुलूर एयर बेस से उड़ान भरी और दोपहर 12:15 बजे तक वेलिंगटन में उतरने की उम्मीद थी।

सुलूर एयर बेस पर एयर ट्रैफिक कंट्रोल का हेलीकॉप्टर से लगभग 12:08 बजे संपर्क टूट गया। इसके बाद कुछ स्थानीय लोगों ने कुन्नूर के पास जंगल में आग देखी और उस स्थान पर पहुंचे जहां उन्होंने आग की लपटों में घिरे सैन्य हेलीकॉप्टर के मलबे को देखा।

मलबे से बरामद सभी लोगों को वेलिंगटन के सैन्य अस्पताल ले जाया गया। इसके बाद पुष्टि हुई कि दुर्भाग्यपूर्ण हेलीकॉप्टर में सवार कुल 14 लोगों में से 13 ने दम तोड़ दिया है।

रक्षा मंत्री ने लोकसभा को बताया कि इस दुर्घटना में विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान, स्क्वाड्रन लीडर कुलदीप सिंह, जूनियर वारंट ऑफिसर राणा प्रताप दास, जूनियर वारंट ऑफिसर अरक्कल प्रदीप, हवलदार सतपाल राय, नायक गुरसेवक सिंह, नायक जितेंद्र कुमार, लांस नायक विवेक कुमार, लांस नायक बी साई तेजा की मौत हुई है।

इसके अलावा मृतकों में सीडीएस की पत्नी श्रीमती मधुलिका रावत, उनके रक्षा सलाहकार ब्रिगेडियर लखबिंदर सिंह लिद्दर, स्टाफ ऑफिसर लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह और वायु सेना के हेलीकॉप्टर चालक दल सहित नौ अन्य सशस्त्र बल कर्मी शामिल हैं।

उन्होंने जानकारी दी कि इस हादसे में बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह वेलिंगटन के मिलिट्री हॉस्पिटल में लाइफ सपोर्ट पर हैं और उनकी जान बचाने के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

वायुसेना अध्यक्ष वीआर चौधरी को दुर्घटना की सूचना मिलने पर कल ही घटनास्थल पर भेज दिया गया था। उन्होंने घटना स्थल एवं वेलिंगटन के मिलिट्री हॉस्पिटल जाकर स्थिति का जायजा लिया।

रक्षा मंत्री ने कहा कि एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह, एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ ट्रेनिंग कमांड की अध्यक्षता में भारतीय वायु सेना ने घटना के संबंध में एक त्रिकोणीय सेवा जांच का आदेश दिया है।

उन्होंने यह भी कहा कि पूरे सैन्य सम्मान के साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का अंतिम संस्कार किया जाएगा। रक्षा मंत्री ने पूरे सदन की ओर से मृतक व्यक्तियों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना भी व्यक्त की।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button