संविधान और सुप्रीम कोर्ट पर नरसिंहानंद की अपमानजनक टिप्पणी को लेकर अवमानना की कार्यवाही की मांग

नई दिल्ली: यति नरसिंहानंद की ओर से हाल में संविधान और सुप्रीम कोर्ट के बारे में कथित अपमानजनक टिप्पणी के खिलाफ अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल को पत्र लिखकर अवमानना की कार्यवाही चलाने की मांग की गई है। अटार्नी जनरल को कार्यकर्ता शची नेली ने पत्र लिखा है।

पत्र में कहा गया है कि विशाल सिंह को दिए एक इंटरव्यू में यति नरसिंहानन्द ने सुप्रीम कोर्ट और संविधान की भी परवाह नहीं की है।

पत्र में कहा गया है कि जब यति नरसिंहानन्द से हरिद्वार हेट स्पीच को लेकर सुप्रीम कोर्ट में चल रही कार्यवाही को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुझे सुप्रीम कोर्ट और संविधान पर भरोसा नहीं है।

संविधान सौ करोड़ हिन्दुओं को खा जाएगा। जो संविधान में विश्वास रखते हैं वे मारे जाएंगे। जो लोग इस सिस्टम पर, इन राजनेताओं पर , सुप्रीम कोर्ट पर और सेना पर भरोसा करते हैं वे कुत्तों की मौत मारे जाएंगे।

पत्र में कहा गया है कि यति नरसिंहानन्द की टिप्पणियां सुप्रीम कोर्ट की गरिमा को गिरानेवाली हैं। ये टिप्पणियां साफ-साफ न्याय प्रणाली में हस्तक्षेप की कोशिश हैं।

ऐसा करना पूरे तरीके से देश में अराजकता का माहौल पैदा करेगा। पत्र में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में इतनी अपमानजनक टिप्पणी अब तक नहीं हुई है।

हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
Back to top button